उम्मीद के पंख : सेवियर रूम बनाकर लोगों की नि:स्वार्थ मदद कर रही “शी विंग्स फाउंडेशन”

प्रतिष्ठित शैक्षणिक, प्रबंधन संस्थानों के जागरुक पुरातन छात्र कर रहे “नर सेवा, नारायण सेवा”

नई दिल्ली। वैश्विक महामारी कोरोना ने न सिर्फ़ इंसानों को झकझोर कर रख दिया है, बल्कि इंसानियत को भी एक चुनौती दी है। बीमारी की आमद से ही देश में लॉकडाउन भी लग गया था। पिछले वर्ष मार्च के महीने में शुरू हुई बन्दी कुछ महीनों के लिए बीच में खुली ही थी कि दूसरी लहर ने फिर एक बार सबकुछ बन्द करा डाला। कहने में कोई गुरेज नहीं कि मध्यम और निम्न वर्ग के लोगों को भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। ऐसे में इन वर्गों की मदद के लिए कई निजी संस्थाएं भी सामने आईं, जिन्होंने पूर्ण मनोयोग से न सिर्फ़ लोगों की सेवा कर इंसानियत की मिसाल पेश की बल्कि जरूरतमंदों को आवश्यकतानुसार राहत व जरूरी सामग्री भी वितरित की। ऐसी ही एक संस्था है “शी विंग्स फाउंडेशन”, जिसने कोरोना काल में मानवता, सेवा, सहयोग और समर्पण कर लोगों के हृदय में अमिट छाप छोड़ी है।

कोरोना काल में लोगों की जीवनरक्षा रहा ध्येय

कोविड-19 महामारी के दौरान, शी विंग्स फाउंडेशन जरूरतमंदों को स्वास्थ्य से सम्बन्धित आवश्यक सामग्री जैसे कि, ऑक्सीजन सिलेंडर, दवाइयां, बेड और वेंटिलेटर की उपलब्धता सम्बन्धी जानकारी मुहैय्या करा रही है। फाउंडेशन के स्वयंसेवक लोगों की सेवा में अहर्निश लगे हुए हैं। शी विंग्स का ध्येय कोरोना काल में लोगों की हर सम्भव सेवा और मदद करने के साथ ही लोगों की जीवन रक्षा करना बना हुआ है।

सेवियर रूम बना कर की जा रही मदद

दरअसल, ‘शी विंग्स’ का काम करने का तरीका लोगों से थोड़ा जुदा है। फाउंडेशन ने एक सेवियर रूम बनाया है। जिसमें देश के प्रतिष्ठित शैक्षणिक और प्रबंधन संस्थानों जैसे कि, आईआईटी रुड़की, आईआईटी खड़गपुर, एम्स, आईआईएम शिलांग के पुरातन छात्र भी जुड़े हैं। जोकि, लोगों की मदद, सहयोग और सेवा में जुटे हुए हैं। 450 लोगों की टीम लगातार लोगों की जान बचाने, उन्हें सुविधाएं मुहैय्या कराने जुटी हुई है। साथ ही, कई प्रतिष्ठित पत्रकार फाउंडेशन के साथ जुड़कर पूरी निष्ठा से मानव धर्म निभा रहे हैं।

महिलाओं की हाईजीन के प्रति है विशेष सजगता

आपको बताते हैं कि “शी विंग्स फाउंडेशन” मूल रूप से महिलाओं की हाईजीन समस्या के निदान की जागरुकता के लिए कार्य करती है। महिलाओं के मासिक धर्म के समय होने वाली परेशानियों, साफ-सफाई और उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिए फाउंडेशन के स्वयंसेवक झोपड़पट्टियों, निम्न वर्ग के रिहायशी इलाकों तथा देश के विभिन्न प्रान्तों के सुदूर गाँवों में द्वार-द्वार पहुँचकर न सिर्फ जागरुक करते हैं, बल्कि सैनिटरी पैड आदि का नि:शुल्क वितरण भी करते हैं।

फाउंडेशन की लोगों से सहयोग की अपील

शी विंग्स फाउंडेशन ने इस कोविड-19 महामारी काल में लोगों की जमकर सेवा की है, जोकि आज भी अनवरत जारी है। इसी सेवा को अनवरत जारी रखने के उद्देश्य से फाउंडेशन ने आमजन से भी सहयोग करने की अपील की है। फाउंडेशन द्वारा सोशल मीडिया पर हैश टैग “शी विंग्स सेवियर” भी चलाया जा रहा है, जोकि अंग्रेजी भाषा में बिना रिक्त स्थान के टाइप करना है। आप द्वारा किया गया लेष मात्र सहयोग भी किसी की जीवन रक्षा कर सकता है। जोकि, मानव होने के नाते हम सबका धर्म है।

Leave a Reply