गौतमबुद्धनगर के डीएम ने आवागमन पर क्या कहा ?

लॉकडाउन अपने तीसरे पायदान पर पहुंच गया है। गौतमबुद्धनगर जिले में आवागमन से संबंधित प्रतिबंध जारी रहेगा। डीएम ने साफ कर दिया है कि पहले से दूसरे राज्यों और जिले अंदर आवागमन की अनुमति नहीं थी। उसमें किसी भी तरह की रियायत नहीं मिलने जा रही है। डीएम के अनुसार, पहले से कोरोना ड्यूटी पर तैनात लोगों और इमरजेंसी सेवाओं से जुड़े लोगों को आवागमन की अनुमति दी गई थी। इस पर किसी भी तरह का प्रतिबंध नहीं लगाया गया है।

दरअसल, यूपी के कई जिलों में लॉकडाउन के विस्तार के बाद सरकार ने कई तरह की रियायत दी है। लेकिन, कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी नहीं आने के कारण जिले में लॉकडाउन से संबंधित सख्ती जारी है। डीएम से सोशल मीडिया पर लोग इससे संबंधित सवाल पूछते देखे जा सकते हैं।

दरअसल, लॉकडाउन के तीसरे फेज में यहां कई रियायत भी दी गई हैं। जिले के डीएम सुहास एल. वाई. ने रविवार देर रात ट्वीट कर जानकारी दी कि यहां नॉन कंटेनमेंट जोन में गृह मंत्रालय और प्रदेश सरकार की गाइडलाइन के अनुसार गतिविधियों को संचालित करने की अनुमति होगी। डीएम ने बताया कि नॉन कंटेनमेंट जोन में अथॉरिटी की इजाजत से ठेकेदार निर्माण कार्य कर सकते हैं।

नॉन कंटेनमेंट जोन में ऐसी इंडस्ट्रीज को परमिशन देने के लिए एक पोर्टल तैयार किया जा रहा है, जिसके जरिए अथॉरिटी या संबद्ध अधिकारी ऑनलाइन परमिशन जारी करेंगे। हर अनिवार्य परमिशन शीघ्र ही ऑनलाइन जारी किया जाएगा। लेकिन 34 कंटेनमेंट जोन में केवल आवश्यक सेवाओं से जुड़ी सप्लाई की ही अनुमति होगी। इस जोन में किसी को बाहर निकलने की अनुमति नहीं होगी।

इसके अलावा आवासीय इलाकों में चलने वाली दुकानों को खोलने की अनुमति मिली है. डीएम ने एक ट्वीट कर जानकारी दी कि मार्केट और मार्केट कॉम्प्लैक्स में जो आवश्यक सेवाओं की दुकानें हैं उन्हें खोलने की अनुमति मिली है। इसके साथ ही निजी दफ्तर 33 फीसदी कर्मचारियों के साथ खोले जा सकते हैं। जबति सरकारी दफ्तर लॉकडाउन 3 के तहत जारी नई गाइडलाइन के तहत खुल सकते हैं।

रिपोर्ट- खूशबू सिंह