कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के बाद पश्चिम अफ्रीकी देशों की सीमाएं सील

अमर भारती : कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर कई पश्चिमी अफ्रीकी देशों ने अपनी सीमाएं सील कर दी हैं और यात्रा प्रतिबंधों को कड़ा कर दिया है। एजेंसी के आंकड़ों के अनुसार यूरोप और एशिया की तुलना में अफ्रीका में कोरोना वायरस उतनी तेजी से नहीं फैल रहा है लेकिन पश्चिमी अफ्रीका का बेनिन देश महाद्वीप का 28वां ऐसा देश है जहां सोमवार को एक व्यक्ति में संक्रमण की पुष्टि हुई।

वायरस के मद्देनजर कई देशों ने आपात उपायों की घोषणा की है। आइवरी कोस्ट ने कहा कि वह उन सभी देशों से यात्रा करने वाले सभी गैर-नागरिकों के लिए 15 दिनों के लिए अपनी सीमाएं सील कर रहा है जहां 100 से अधिक लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। सेनेगल में सोमवार को 27वां मामला सामने आने के बाद यह कदम उठाया गया। उसने सात यूरोपीय और उत्तरी अफ्रीकी देशों से आने वाली उड़ानों पर भी रोक लगा दी है।

घाना ने सोमवार को स्कूल बंद करने के साथ ही सार्वजनिक कार्यक्रमों पर भी रोक लगा दी थी। वहीं यूक्रेन में सार्वजनिक यातायात, बार, रेस्तरां और शॉपिंग मॉल बंद कर दिए गए हैं। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की के कोरोना वायरस से कठोरता से निपटने का वादा करने के बाद यह कदम उठाया गया है। सरकार ने जेलेंस्की के उस प्रस्ताव का समर्थन किया, जिसमें उन्होंने घरेलू गतिविधियों पर पूर्ण प्रतिबंध सहित देश की तीन मेट्रो प्रणालियों – कीव, खारकिव और डिन्प्रो में- को तीन अप्रैल तक बंद करने की बात कही थी।

सरकार ने बड़े कार्यक्रमों और 10 से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर भी रोक लगा दी है।इस बीच, चिली और पेरू ने भी अपनी सीमाओं को बंद करने की घोषणा की है। वहीं लातिन अमेरिका की सबसे बड़ी एयरलाइन ने कहा कि वह विमान सेवाओं में 70 प्रतिशत तक कटौती कर रहा है क्योंकि क्षेत्र में कोरोना वायरस महामारी तेजी से फैल रही है।