UP को ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिग में दूसरा स्थान

लखनऊ. कोरोना वायरस संक्रमण के बीच उत्तर प्रदेश के व्यापार के तरीके में भी काफी सुधार हुआ है और ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिग में उत्तर प्रदेश ने लंबी छलांग लगाई है। राज्य को राष्ट्रीय स्तर पर दूसरा स्थान मिला है।

अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एस.पी. गोयल व अपर मुख्य सचिव अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आलोक कुमार ने यहां संयुक्त रूप से बताया की प्रदेश की रैंकिग 12वें स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंच गई है।

प्रदेश ने पिछले साढ़े तीन साल में सिगल विडो सिस्टम से आवेदन, अनापत्ति, क्लियरेंस व स्वीकृतियां ऑनलाइन देने की कार्यवाही की है।

कई श्रम सुधार किए हैं। इस उपलब्धि से निवेशकों में बेहतर संदेश जाएगा और प्रदेश में निवेश के लिए आकर्षित होंगे।

केंद्र सरकार की ओर से जारी रैकिग में उत्तर प्रदेश ने लंबी छलांग लगाकर दूसरा स्थान प्राप्त कर लिया है। पहले स्थान आंध्र प्रदेश है। उत्तर प्रदेश ने तेलंगाना को पीछे छोड़ते हुए दूसरे नंबर पर जगह बना ली है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट के माध्यम से लिखा, प्रधानमंत्री जी के आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना को साकार करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार सतत प्रयासरत है।

उत्तर प्रदेश द्वारा ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रैंकिग में गत वर्ष 12वें स्थान के सापेक्ष, इस वर्ष द्वितीय स्थान प्राप्त करना, इसका प्रत्यक्ष प्रमाण है। सभी प्रदेशवासियों को बधाई।

उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आर.के. तिवारी ने कहा, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के कुशल निर्देशन में 12वें स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचने में कामयाबी मिली है।

अब हम सभी को मिलकर प्रदेश को निवेशकों का सबसे पसंदीदा नंबर वन निवेश स्थल बनाना है।

कोरोना काल में नकदी समस्या से हैं परेशान, ऐसे में मिलेगा तुरंत लोन

ज्ञात हो कि केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार को वर्ष 2019 के लिए यह रैंकिग जारी की, जिसमें उत्तर प्रदेश को एक बड़ी सफलता मिली है। राज्य छलांग लगाने के कारण तेलंगाना तीसरे स्थान पर खिसक गया है।

इस रैकिग से पता चलता है कि यूपी सरकार ने व्यापार में सुधार की दिशा में तेजी से काम किया है। इसके साथ ही यहां पर निवेशक आसानी से व्यापार को बढ़ा भी सकते हैं।

भारत देश में पहली बार IIT और IIS जैसे संस्थानों ने बढ़ाया देश का मान

प्रदेश ने पिछले साढ़े तीन साल में सिगल विडो सिस्टम से आवेदन, अनापत्ति, क्लियरेंस व स्वीकृतियां ऑनलाइन देने की कार्यवाही की है। कई श्रम सुधार किए हैं। इससे निवेशकों में अच्छा संदेश जाएगा, लोग आकर्षित होंगे।