परिवार से मिलने गाजियाबाद से निकले दो भाई, नाले से मिले शव

अमर भारती : मोहम्मद आमिर और हाशिम गाजियाबाद से गोकलपुरी में अपने परिवार से मिलने के लिए निकले थे लेकिन न तो उन्हें और न ही परिवार वालों को पता था कि घर तक का उनका सफर कभी पूरा ही नहीं होगा।अपने बड़े भाई नासिर की सलाह न मानते हुए 25 वर्षीय आमिर और 16 वर्षीय हाशिम बुधवार शाम को सुंदर नगरी में अपनी दादी के घर से पुराने मुस्तफाबाद में अपने घर लौटने के लिए निकले। उस समय उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा फैली हुई थी। लेकिन अगले दिन परिवार को जीटीबी अस्पताल में दोनों की लाशें मिली। 20 वर्षीय नासिर ने बताया, ‘‘रात करीब साढ़े आठ बजे आमिर का फोन आया कि वे पांच मिनट में घर पहुंच जाएंगे।

हाशिम उसके साथ बाइक पर था। लेकिन वे घर नहीं लौटे। बाद में जब हमने उन्हें फोन किया तो उनका फोन नहीं मिला।’’ परिवार के सदस्यों ने इसके बाद दोनों को खोजना शुरू किया। उन्होंने अंतिम बार फोन गोकुलपुरी के गंगा विहार इलाके से किया था। आमिर गाजियाबाद में ड्राइवर के तौर पर काम करता था और हाशिम उसका सहायक था। उसने अपनी पढ़ाई बीच में छोड़ दी थी। नासिर ने बताया, ‘‘हम उन्हें नहीं तलाश पाए। हम गोकुलपुरी पुलिस थाने पहुंचे जहां एक महिला पुलिस अधिकारी ने हमें बताया कि उनके शव एक नाले से निकाले गए हैं और जीटीबी अस्पताल ले जाए गए हैं।’’

इस खबर से बुरी तरह टूट चुकी उनकी मां असगरी ने उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा के लिए राजनीतिज्ञों को जिम्मेदार ठहराया जिसमें अभी तक कम से कम 42 लोग मारे जा चुके हैं और 250 से अधिक घायल हैं। वह कहती हैं, ‘‘ हर कोई जानता है उनकी हत्या के लिए कौन जिम्मेदार है। ये वही नेता हैं जो हमारे खिलाफ नफरत फैला रहे थे। हम शांति चाहते हैं। जैसे मैंने अपने बच्चे खोए हैं, कोई भी मां ऐसे अपने बच्चों को न खोए।’’ आमिर के परिवार में उसकी चार साल और छह महीने की बेटियां बची हैं।वह ड्राइवर के रूप में काम करता था और हाशिम उसका सहायक था।

हाशिम ने बीच में ही पढ़ाई छोड़ दी थी। पुराने मुस्तफाबाद के 25 फुटा रोड की तंग गलियों में दोनों भाइयों के घर पर लोगों की भीड़ जुटी है। दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश एस मुरलीधर के तबादले का जिक्र करते हुए उनके एक पड़ोसी ने कहा, ‘‘ मीडिया हम पर आरोप लगा रहा है। जिन नेताओं ने जहर उगला और नफरत भरे भाषण दिए उन्हें कोई छू तक नहीं रहा है। उनके खिलाफ मामले दर्ज करने का आदेश देने वाले जज का तबादला कर दिया गया।’’ नासिर ने बताया कि शव अभी नहीं मिले हैं क्योंकि पोस्टमार्टम कल होगा।