सरयू किनारे बहेगी धर्म और शास्त्र की बयार, बनेगा भगवान श्रीराम विश्वविद्यालय

राम मंदिर निर्माण के साथ अयोध्या निरन्तर विकास की ओर…….



अयोध्या।
 उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार अब अयोध्या में भगवान राम विश्वविद्यालय बनाने की योजना बना रही है। प्रस्तावित विश्वविद्यालय में भगवान राम से संबंधित संस्कृति, शास्त्रों, विश्वासों और धार्मिक तथ्यों पर अध्ययन और शोध किया जाएगा। राज्य के उच्च शिक्षा विभाग को संभालने वाले उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा के मुताबिक, विश्वविद्यालय द्वारा दुनिया के समक्ष भगवान राम के जीवन और सिद्धांतों को प्रस्तुत किया जाएगा।

निजी क्षेत्र निर्मित करेगा विश्वविद्यालय


आयोध्या में राम मंदिर निर्माण के साथ ही विकास ने दस्तक दी है। लगातार नई-नई चीजों के विकास की परियोजना तैयार करने की घोषणाएं की जा रही हैं। बता दें, उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने ‘श्री राम विश्वविद्यालय’ की स्थापना की घोषणा की है। साथ ही, इसे बनाने के लिए निजी क्षेत्र के लोगों को भी आमंत्रित किया।

धर्म के साथ पढ़ाये जाएंगे शास्त्र


बता दें कि अयोध्या वासियों ने सरकार के समक्ष यह प्रस्ताव रखा था कि निजी विश्वविद्यालय के क्षेत्र में मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम विश्वविद्यालय स्थापित हो। भगवान राम के नाम पर बन रहे विश्वविद्यालय में धर्म के साथ-साथ धर्म शास्त्रों को पढ़ाए जाने का उद्देश्य है। इसके अलावा लोगों की मांग है कि श्री राम के साहित्य, रामायण, राम चरित्र मानस, धर्मग्रंथों और जितनी भाषाओं में रामायण लिखी गई, उन पर अध्यन किया जाए।

अगले साल बनकर तैयार होगा एयरपोर्ट  


आप को बता दें कि अयोध्या में एयरपोर्ट इस लिए बनवाया जा रहा है ताकि राम मंदिर निर्माण के बाद देश-विदेश से भक्त यहां दर्शन के लिए आसानी से आ सकें। जानकारी मुताबिक, अगले साल तक एयरपोर्ट बनकर तैयार हो जाएगा। वहीं, रोप-वे और सड़कों का भी निर्माण युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। एक किस्म से अयोध्या को सांस्कृतिक नगरी के तौर पर विकसित करने का प्लान है।

Leave a Reply