कोरोना संक्रमित सतह से कोरोना फैलने की दर न के ही बराबर,यूएस की रिसर्च में नया खुलासा

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में तेजी से कोरोना संक्रमण के मामलें बढ़ रहे है,  जिससे पूरी दुनिया परेशान है। इस संक्रमण में लगातार कही तरह के बदलाव देखने को मिल रहे है। जिसने वैज्ञानिकों को भी अचंबित कर रखा है।  पिछले वर्ष जब इस  महामारी ने पूरी दुनिया में अपनी दस्तक दी थी, उस समय वैज्ञानिकों द्वारा कहा गया था कि  यदि कोई भी कोरोना संक्रमित सतह को छू लेगा तो वो भी इसके संक्रमण की चपेट में आ जाएगा। लेकिन अब इसी को लेकर नई  रिसर्च आई है जिसमे कहा गया है कि संक्रमित सतह को छूने से वायरस नहीं फैलता है।

संक्रमित सतह से कोरोना फैलने की दर न के ही बराबर 

अमेरिका के सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के डायरेक्‍टर रोशेल वेलेंस्‍की ने बताया आशंका बिल्कुल कम ही है कि इस तरह से वायरस फैलता हे। अमेरिकी विशेषज्ञ द्वारा कहा गया कि ” दस हजार मामलों में से केवल एक ही मामला ऐसा सामने आता है जिसमें कोई इस तरह से संक्रमित हुआ हो। इस तरह से संक्रमित सतह से कोरोना फैलने की दर लगभग न के ही बराबर है।”

वायरस हवा के जरिए अधिक फैल रहा है।

सीडीसी की रिपोर्ट में कहा गया है कि “इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि संक्रमित सतह को छूने से कोई व्‍यक्ति इसकी चपेट में नहीं आ सकता है, लेकिन इसकी दर इतनी कम है कि जिसको मानना मुश्किल है।” विशेषज्ञों का कहना है कि “ये वायरस हवा के जरिए अधिक फैल रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक हवा में कोरोना संक्रमित व्‍यक्ति की नाक और मुंह से निकली बेहद छोटी बूंदे मौजूद रहती हैं जो दूसरे को संक्रमित करती हैं।

Leave a Reply