चीन को मात देने के लिए क्वाड देशों की पहली मीटिंग आज

भारत, अमेरिका, जापाल और आस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री होंगे शामिल
भारतीय समयानुसार शाम 7 बजे होगी मीटिंग

नई दिल्ली। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन और जापान के प्रधानमंत्री योशिहिडे सुगा आज क्वाड मीटिंग में शामिल होने जा रहे हैं। बता दें कि यह पहला मौका है, जब प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन एक ही बैठक में शामिल होने वालें हैं। आज का दिन 2021 की अंतरराष्ट्रीय कूटनीति के लिए बहुत अहम है। चारों देशों की ये पहली क्वाड मीटिंग है। यह मीटिंग वर्चुअली होगी।

क्वाड मीटिंग के अहम मुद्दे

क्वाड की मीटिंग में हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की बढ़ती चुनौती पर लगाम लगाना चर्चा का विषय होगा। जिसमें, रणनीतिक और सैन्य साझा सहयोग के एजेंडे पर बात होगी। कोरोना महामारी से निपटने में चारों देशों की क्या भूमिका है, इस पर भी बातचीत होगी। भारत की वैक्सीन को बढ़ावा देने के लिए फंड का भी ऐलान हो सकता है। इसके अलावा जलवायु परिवर्तन और आर्थिक संकट भी बैठक के प्रमुख एजेंडा में शामिल है। क्वाड मीटिंग में भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया का चीन से अलग एक वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला प्रणाली बनाने पर भी बात की जाएगी। जिससे चीन की मनमानी पर काबू पाया जा सके।

एशिया-प्रशांत  क्षेत्र में शांति के लिए क्वाड की स्थापना

क्वाड का मतलब क्वाड्रीलेटरल सिक्योरिटी डायलॉग से है। भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका इसमें शामिल हैं। क्वाड का मकसद हिन्द प्रशांत क्षेत्र में शांति की बहाली करना और संतुलन बनाए रखना है। सबसे पहले साल 2007 में जापान के तत्कालीन प्रधानमंत्री शिंजो आबे की तरफ से क्वाड का प्रस्ताव पेश किया गया था। इस प्रस्ताव का भारत, अमेरिका और आस्ट्रेलिया ने समर्थन किया था। जिसके चलते वर्तमान समय में चारों देश इसमें शामिल हैं।

Leave a Reply