आतंकवादी गिरफ्तारी मामला: पकड़े गए चार उग्रवादियों को दिल्ली पुलिस ने रिमांड पर भेजा, बाकी दो आज कोर्ट में होंगे पेश

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने बीती शाम 4 आतंकवादी जान मोहम्मद शेख, ओसामा, मूलचंद, मोहम्मद अबू बक्र को अदालत में पेश किया। सभी को 14 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है। दिल्ली पुलिस बचे हुए दो आरोपितों को आज कोर्ट में पेश करेगी। गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पाकिस्तान द्वारा चलाए जा रहे डर मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया था। पुलिस ने पाकिस्तान से तैयारी कर लाए गए दो दहशतगर्दी समेत 6 लोगों को भी पकड़ लिया है। जैसा कि पुलिस ने संकेत दिया है, ये कैप्चर यूपी, महाराष्ट्र और दिल्ली का उपयोग करके तैयार किए गए हैं। स्पेशल सेल के सीपी नीरज ठाकुर ने कहा था, ‘हमने 6 मनोवैज्ञानिक उत्पीड़कों को पकड़ा है, जिनमें से दो तैयारी के मद्देनजर पाकिस्तान से लौटे हैं। मल्टी स्टेट एक्टिविटी कर 6 लोगों को पकड़ा गया है । उन्होंने बताया था कि इस मॉड्यूल से संबंधित जानकारी अंतर्दृष्टि कार्यालयों से प्राप्त की गई थी। जांच में पता चला कि उनका संगठन कई राज्यों में फैला हुआ है। दिन के हमले के पहले भाग में, महाराष्ट्र के एक आत्मघाती हमलावर को कोटा से पकड़ा गया था।

यूपी एटीएस की भी मिली मदद

साथ ही यूपी एटीएस की मदद से तीन लोग मिले, जबकि दो दिल्ली से आए। उनमें से दो मस्कट गए, फिर उन्हें वहां नाव से पाकिस्तान ले जाया गया। पुलिस के संकेत के अनुसार पकड़े गए लोगों ने बताया कि उनके साथ 14 लोग बांग्ला भाषा में बात कर रहे थे। उन्हें एक रियासत के घर में 15 दिन की तैयारी के लिए हथियार दिए गए।

आत्मघाती हमलावरों ने बनाए दो गुट

स्पेशल सीपी ने बताया था कि आत्मघाती हमलावरों ने दो गुट बनाए थे. बाद के समूह का काम भारत में उत्सव के आयोजन पर राष्ट्र पर पड़ने वाले प्रभाव के लिए शहरी समुदायों की जाँच करना था। हमें इनपुट मिले थे जिसमें यह पता चला कि भारत के कुछ हिस्सों में भय आधारित उत्पीड़क घटनाएं होंगी। हमने विशेष टोही के माध्यम से पुष्टि की है कि इस तरह की साजिश को सामने लाया जा रहा है। उनके 2 ग्रुप बनाए गए थे, जो दाऊद इब्राहिम के भाई अनीस की प्लानिंग के अनुकूल काम कर रहे थे। हमारे पास पाकिस्तान की तैयारी के बारे में एक टन डेटा है, जिसे हम केंद्रीय एजेंसी को भी प्रदान करेंगे। उत्सव के मौसम में एक स्थान से दूसरे स्थान पर प्रभावित होने की उनकी मौलिक मिलीभगत थी। इन लोगों को दिल्ली, उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में बम दागना था। रामलीला और नवरात्रि के प्रोजेक्ट पटरी पर थे।

Leave a Reply