स्वयं सुधारें गलती : जानिए कैसे खुद सुधार कर सकते हैं कोरोना वैक्सीन सर्टिफिकेट में हुई गलतियाँ

नई दिल्ली। कोरोना वैक्सीन लगवाने पर जारी सर्टिफिकेट में हुई गलतियों को लोग स्वयं सुधार सकेंगे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविन पोर्टल पर नया फीचर जोड़ दिया है। इस सुविधा के बाद सर्टिफिकेट में नाम, जन्म की तारीख, जेंडर में हुई गलतियों को लोग स्वयं सुधार सकेंगे।

अब गलतियां ठीक करना हुआ आसान

स्वास्थ्य मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव विकासशील ने बताया कि, सर्टिफिकेट में कई लोग गलतियों की शिकायत कर रहे थे। खासकर विदेश जाने वाले लोगों के लिए यह सर्टिफिकेट अनिवार्य है। वहां कई लोगों के नाम के स्पेलिंग में गलतियां, जन्म की तारीख व जेंडर की गलतियां सामने आईं। उसे ठीक करने के लिए मंत्रालय ने अब नया फीचर जोड़ दिया है। इससे लोगों को अपने सर्टिफिकेट में गलतियां ठीक करना आसान हो गया है। कोविन या आरोग्य सेतु एप पर नया फीचर जोड़ दिया गया है, जिसकी मदद से सर्टिफिकेट में सुधार आसान हो जाएगा।

परदेस जाने वालों के लिए नई गाइडलाइन

इससे पहले केंद्र सरकार ने पढ़ाई-नौकरी के लिए विदेश जा रहे नागरिकों के लिए कोविड वैक्सीन लगाने के लिए नई गाइडलाइन जारी की है। इन गाइडलाइंस में पढ़ाई-नौकरी के साथ-साथ टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल के सदस्यों की वैक्सीनेशन के लिए एसओपी है।

नई गाइडलाइंस में इन लोगों को मिली छूट

पढ़ाई के लिए विदेश जा रहे विद्यार्थियों, नौकरी के लिए विदेश जा रहे लोग और टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने वाले भारतीय दल के सदस्यों के लिए नई गाइडलाइंस जारी की गई हैं। इन लोगों को 84 दिनों से पहले वैक्सीन की दूसरी डोज दी जाएगी।

दोनों खुराकों में 28 दिन का अंतर जरूरी

वैक्सीन की दूसरी खुराक देते वक्त प्रशासन कुछ बातों का ख्याल भी रखेगा। इसमें यह देखा जाएगा कि दोनों खुराकों में कम से कम 28 दिन का अंतर जरूर हो। इसके अलावा यात्रियों के ट्रैवल डॉक्यूमेंट भी चेक किए जाएंगे। इस विवरण में आगे कहा गया है कि दूसरी खुराक के लिए ऐसे लोगों के पासपोर्ट को आईडी के रूप में इस्तेमाल करना चाहिए ताकि वैक्सीन सर्टिफिकेट पर पासपोर्ट नंबर प्रिंट किया जाए। ये सुविधा उन लोगों के लिए है, जिन्हें 31 अगस्त से पहले तक विदेश जाना है।

Leave a Reply