पॉवर से हारेगा कोरोना : महामारी रोकने के लिए पावर ग्रिड उठा रही कई कदम

नई दिल्ली। पूरा देश इस समय महामारी से लड़ रहा है। इसी का परिणाम है कि धीरे-धीरे कोरोना के मामलों में कमी आ रही है। इसी क्रम में भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय के अंतर्गत ‘महारत्न‘ कंपनी पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (पावरग्रिड) ने पूरे देश में अपने कर्मचारियों और कामगारों को मदद पहुंचाने के लिए सक्रिय रूप से विभिन्न कदम उठाए हैं ।

राउरकेला में रैपिड एंटीजन टेस्ट शिविर आयोजित

कंपनी पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (पावर ग्रिड) द्वारा राउरकेला सब-स्टेशन, ओडिशा परियोजना परिसर को 100 प्रतिशत कोविड-19 मुक्त बनाने और कोविड मामलों को बढ़ने से रोकने के लिए सक्रिय कदम उठाए जा रहे हैं। राउरकेला सब-स्टेशन के पास के इलाकों में सब-स्टेशन कर्मचारियों, कामगारों और उनके परिवारजनों के लिए बड़े पैमाने पर रैपिड एंटीजन टेस्ट के लिए शिविर का आयोजन किया गया।

अंगुल सब-स्टेशन में उठाया यह कदम

अंगुल सब-स्टेशन पर भी टीकाकरण शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें कर्मचारियों, परिवार के सदस्यों, एएमसी फिटरों, चालकों आदि सहित 100 लोगों को टीके लगाए गए। इसी तरह के शिविर बारीपद, कानिहा तथा बोलनगिर सब-स्टेशनों पर भी लगाए गए।

देशभर में टीकाकरण कैंप आयोजित

आपको बता दें, पावर ग्रिड के सभी संस्थानों में टीकाकरण कैंप का आयोजन किए जा रहे हैं। इस टीकाकरण अभियान का आयोजन राष्ट्रीय मिशन के तौर पर किया जा रहा है।

बिहार में भी कई जगह टीकाकरण कैम्प

पटना के रीजनल मुख्यालय में 19 और 20 मई 2021 को दो दिवसीय टीकाकरण कैंप का आयोजन किया गया था। इस कैंप में पटना रीजनल मुख्यालय के कर्मचारियों के साथ-साथ पटना सब-स्टेशन और बिहार ग्रिड कंपनी लिमिटेड के कर्मचारियों को भी टीका लगाया गया। इस कैंप का आयोजन पटना जिला टीकाकरण विभाग की देखरेख में किया गया। पावर ग्रिड के पूर्वी रीजन – I द्वारा आयोजित इस सबसे बड़े दो-दिवसीय कैंप के दौरान 350 से अधिक लोगों का टीकाकरण हुआ, जिसमें कर्मचारी, उन पर आश्रित परिवार के लोग और कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स शामिल थे।
टीकाकरण कैंप का आयोजन आरा, बिहारशरीफ, सहरसा और मुजफ्फरपुर सब-स्टेशनों के कर्मचारियों, उनके परिवारजनों, कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स और सुरक्षा कर्मियों के लिए भी किया गया।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में भी पावर ग्रिड ने करवाया टीकाकरण

आपको बता दें, इससे एक सप्ताह पहले एक कैम्प गुरुग्राम के सेक्टर 43 के बहुउद्देश्यीय प्रेक्षागृह (एमपी हॉल) में आयोजित हुआ था, जिसे मैक्स अस्पताल के सहयोग से चलाया गया। यहां 1600 से अधिक लोगों को टीके लगाए गए थे। इनमें सेवारत कर्मचारी, ठेका मजदूर और सेवानिवृत्त कर्मचारी और उनके परिवार वाले शामिल हुए। एक अन्य टीकाकरण कैम्प पावर ग्रिड ने अपने एमपी हॉल में पिछले महीने चलाया था। इसके लिये मैक्स अस्पताल, फोर्टिस और आर्टेमिस का सहयोग लिया गया। कैंप में 700 से अधिक लोगों को टीके लगाये गए।

290 से अधिक का टीकाकरण

पावर ग्रिड ने एक अन्य टीकाकरण कैम्प दिल्ली के कटवारिया सराय में लगाया था। इसमें अपोलो अस्पताल का सहयोग लिया गया और यहां 290 से अधिक लोगों को टीके लगाए गए। इनमें बिजली मंत्रालय और सार्वजनिक क्षेत्र की अन्य बिजली कंपनियों के 80 से अधिक सेवारत कर्मचारी और उनके परिजन शामिल हुए थे।

केंद्र के साथ खड़ा पॉवरग्रिड

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आयोजित इन तीनों कैंपों में 2600 से अधिक लोगों को पावर ग्रिड के सौजन्य से टीके लगाए गए। ये कैंप 18-44 आयु वर्ग और 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के लिये आयोजित किये गये थे। पावर ग्रिड, दुनिया में सबसे बड़े टीकाकरण अभियान को पूरा करने के केंद्र सरकार के प्रयासों के साथ खड़ा है।

Leave a Reply