पीएम मोदी ने तनाव झेलने के लिए पुलिस अफसरों को दिया मंत्र

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकादमी के दीक्षांत समारोह में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आईपीएस प्रोबेशनर्स को संबोधित किया।

इस दौरान उन्होंने ट्रेनिंग पूरी करने वाले 28 महिलाओं सहित 131 युवा आईपीएस अफसरों को तनावपूर्ण जीवन में भी खुश रहने के टिप्स दिए।

प्रधानमंत्री मोदी ने पुलिस अफसरों से कहा कि योगा और प्रणायाम ऐसे सिद्ध विकल्प हैं, जिसके जरिए आप तनावपूर्ण जीवन में भी खुश रह सकते हैं। दीक्षांत समारोह में गृहमंत्री अमित शाह ने भी वीडियो कांफ्रेंसिंग से हिस्सा लिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आईपीएस अफसरों से कुछ सवाल पूछने के लिए कहा तो तमिलनाडु की आईपीएस अफसर किरण श्रुति ने कार्य के दौरान तनाव की बात कही।

इस पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि तनावपूर्ण जीवन जीने वालों को हमेशा आग्रह करता हूं कि वे योगा, प्राणायाम करें। मन से करेंगे तो इसका बहुत लाभ मिलेगा। तब आपको तनाव कभी महसूस नहीं होगा। आप हमेशा प्रसन्न रहेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जिंदगी की आपाधापी में तनाव भी रहता है, वर्कलोड भी रहता है। हर किसी को रहता है। जीवन का हिस्सा तनाव है।

लेकिन, ये ऐसी चीज नहीं है कि जिसको मैनेज न किया जा सके। वैज्ञानिक तरीके से अपने व्यक्तित्व को, क्षमताओं और जिम्मेदारियों की बहुत संतुलित व्यवस्था करते हैं तो आप बड़ी आसानी से चीजों को मैनेज कर सकते हैं।

पीएम मोदी सार्वजनिक कार्यों के लिए, अब तक 103 करोड़ रुपये कर चुके हैं दान

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, आप लोगों का क्षेत्र ऐसा है, जिसमें बहुत सी अप्रत्याशित चीजें आ जाती हैं। खुद को हमेशा तैयार रखना होगा। इसके लिए नियमित ट्रेनिंग होना जरूरी है।

आप जब फील्ड में काम करेंगे तो पुलिस थाने के लेवल पर उस इलाके मे कुछ ऐसे लोग होंगे, जो ऐसे विषयों पर सरलता से बाते करते होंगे।

कभी 15 दिन या महीने में एक बार आप उनको बुलाकर ऐसे विषयों पर चर्चा कर सकते हैं। इन सब बातों से आप चुनौतियों के अनुरूप खुद को ढाल सकते हैं।

नेपाल सीमा पर भारत विरोधी प्रदर्शन को फंडिंग कर रहा चीन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, वैसे मैं लगातार आपके यहां (एकेडमी) से निकलने वाले साथियों से दिल्ली में मिलता था। मेरे निवास स्थान पर सबको बुलाता था।

लेकिन कोरोना के कारण पैदा हुई परिस्थितियों के कारण ये मौका गंवाना पड़ रहा है। लेकिन पक्का विश्वास है कि कार्यकाल के दरमियान कभी न कभी आप लोगों से भेंट होगी।