palghar lynching: पालघर मॉब लिंचिंग की जांच CID के हाथ, सियासत जारी

Lockdown के बीच महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं और उनके ड्राइवर के साथ हुई मॉब लिंचिंग की घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। बेरहमी से हुई इन हत्याओं ने जहां इस पूरी घटना को धार्मिक रंग दे दिया है वहीं इस पर राजनीति भी हो रही है। इस बीच महाराष्ट्र सरकार ने पालघर में दो साधुओं समेत तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या के मामले को आपराधिक जांच विभाग (CID) को सौंप दी है।

मामले में अब तक 100 से ज्यादा लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। दूसरी तरफ घटना को लेकर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से बात की है और दोषियों को जल्द सजा देन की बात कही है। सरकार ने राज्य सरकार से घटना पर रिपोर्ट भी तलब की है।

वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने केंद्रीय गृह मंत्री से अपील की है कि वो इस घटना को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करे। राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने भी मामले को सांप्रदायिक रंग देने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी है।

उद्धव ठाकरे ने सोमवार को फेसबुक के जरिए राज्य को संबोधित करते हुए कहा कि इस मामले में किसी को बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि अमित शाह ने भी माना है कि इसमें कोई सांप्रदायिक मामला नहीं है।