हाथ में नौ महीने का बच्चा, तपती धूप में चलती मां

अमर भारती : वैश्विक महामारी कोरोना वायरस को रोकने के लिए सरकार ने पूरे देश में लॉकडाउन लागू किया हुआ है। इस कारण विभिन्न राज्यों में प्रवासी मजदूर फंस गए हैं। इन मजदूरों को सरकार वापस इनके गृह राज्य भेजने के लिए विशेष ट्रेनों का संचालन कर रही है। वहीं, कुछ ऐसे भी मजदूर हैं, जो पैदल की घरों की तरफ चले जा रहे हैं।

इसी तरह की घटना से जुड़ा एक वीडियो सामने आया, जिसमें एक महिला एक हाथ में ट्रॉली बैग और दूसरे हाथ में एक नौ महीने के मासूम बेटे को लिए घर की ओर बढ़ रही है। वीडियो बनाने वाले शख्स ने बताया कि महिला तपती धूप में गुजरात के सूरत से एक हजार किलोमीटर का सफर पैदल तय कर इंदौर तक आ गई थी। महिला के पास न तो पैसे था और न ही बच्चे को पिलाने के लिए दूध।एम फॉर सेवा ऑल इंडिया मूमेंट सेवा समिति के सदस्य अजय गुप्ता ने इसका वीडियो बनाया था। उन्होंने बताया कि महिला की स्थिति को देखा तो सेवा समिति की मदद से उसके भोजन और पानी के साथ उसके आगे जाने की व्यवस्था कराई।

गुप्ता ने बताया कि वीडियो आठ से नौ दिन पुराना है। उन्होंने बताया कि सेवा समिति के सदस्य इंदौर बायपास जाने वाले मजदूरों को पानी पिलाने का काम कर रहे थे। तभी उनकी नजर रोड पर ट्रॉली बैग लेकर जा रही एक महिला पर पड़ी। महिला ने एक हाथ में नौ महीने का बच्चा लिया हुआ था।उसने बताया कि वह सूरत से सैंकड़ों किलोमीटर का सफर तय कर इंदौर पहुंची है। उसे प्रयागराज जाना है। इसके बाद हमने इसकी सूचना पुलिस को दी और पुलिस ने उसके कानपुर तक जाने की व्यवस्था की।