पुडुचेरी में एनडीए गठबंधन को 16, यूपीए को मिली 8 सीटों पर जीत

नई दिल्ली। पुडुचेरी चुनाव परिणामों में एनडीए को स्पष्ट बहुमत मिला है। विधानसभा चुनावों में ऑल इंडिया एनआर कांग्रेस को सर्वाधिक 10 सीटें, भारतीय जनता पार्टी को 6, द्रमुक को 6 और कांग्रेस को 2 सीटों पर जीत मिली है। इन सबके अलावा राज्य में 6 निर्दलीय प्रत्याशियों को भी जीत हासिल हुई है।

इन्हें मिला सबसे अधिक प्रतिशत वोट

वोट शेयर की बात करें तो राज्य में ऑल इंडिया एनआर कांग्रेस को सर्वाधिक 25.85% वोट मिला है। इसके बाद इस सूची में डीएमके, कांग्रेस, और भाजपा का नाम आता है, जिन्हें इन चुनावों में क्रमशः 18.51%, 15.71% और 13.66% वोट हासिल हुए हैं।

गठबंधनों के बीच था सीधा मुकाबला

इन सभी चुनावों के परिणाम चुनाव आयोग की वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं। इस बार के चुनाव में एन रंगास्वामी के नेतृत्व वाले ऑल इंडिया एन आर कांग्रेस, ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कषगम और भाजपा के गठबंधन का सीधा मुकाबला कांग्रेस, द्रविड़ मुनेत्र कषगम और अन्य क्षेत्रीय दलों के गठबंधन से था। कुल 324 प्रत्याशियों ने चुनाव के लिए पर्चा भरा था।

इन सीटों पर देखने को मिली कांटे की टक्कर

1) राज्य की यनम विधानसभा सीट पर कांटे की टक्कर देखने को मिली। कुल 15 राउंड तक हुई मतगणना के बाद राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी के संस्थापक एन रंगास्वामी को श्रीनिवास अशोक ने 646 मतों से हराया। रंगास्वामी को कुल 16228 वोट मिले, जबकि श्रीनिवास अशोक को 16874 वोट मिले। इस सीट पर कुल 115 वोट नोटा को पड़े।

2) राज्य की बहौर विधानसभा सीट पर भी हार और जीत का अंतर् काफी निकट रहा। इस सीट पर द्रमुक प्रत्याशी आर सेंथिलकुमार विजयी रहे, उन्हें कुल 11,589 वोट मिले। जबकि उनके निकटतम प्रतिद्वंदी और ऑल इंडिया एनआर कांग्रेस के प्रत्याशी धनवेलौ को कुल 11,311 वोट मिले। दोनों प्रत्याशियों के बीच हार और जीत का अंतर 211 वोटों का रहा।

3) कराईकल उत्तर विधानसभा सीट से ऑल इंडिया एनआर कांग्रेस के प्रत्याशी थिरुमुरगुन रहे, जिन्हें कुल 12,362 वोट मिले। दूसरे नंबर पर कांग्रेस के ऐ वी शुभ्रमण्यम रहे, जिन्हें कुल 12, 215 वोट मिले। यहाँ पर भी जीत-हार के बीच का अंतर 135 वोटों का रहा। इस क्षेत्र में कुल 275 वोट नोटा को भी पड़े।

4) माहे विधानसभा सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी आर पारमबाथ विजयी रहे, उन्हें कुल 9460 वोट हासिल हुए। इनके निकटतम प्रतिद्वंदी और निर्दलीय प्रत्याशी हरीदसन मास्टर को 9240 वोट मिले। इस सीट पर कुल 10 राउंड तक मतगणना चली और हार जीत का अंतर 300 वोटों का रहा। इस सीट पर 215 वोट नोटा को पड़े।

पिछले विधानसभा चुनावों में यूपीए को मिला था बहुमत

साल 2016 में हुए विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए गठबंधन को जीत हासिल हुई थी। यूपीए ने इन चुनावों में कुल 17 सीटें जीती थी, जिनमें से कांग्रेस को अकेले 15 सीटें हासिल हुई थी। यहां कांग्रेस के वी नारायणस्वामी मुख्यमंत्री बने थे। वहीं बीजेपी गठबंधन को 12 सीटें हासिल हुई थी। जानकारी के लिए बता दें कि केंद्रशासित प्रदेश में 30 सीटों पर चुनाव होता है जबकि शेष 3 सीटों के लिए सदस्यों को मनोनीत किया जाता है।

पुडुचेरी से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

पुडुचेरी एक केंद्र शासित प्रदेश है, जिसकी एक विधानसभा है। इस केंद्र शासित प्रदेश में एक चुना हुआ मुख्यमंत्री और एक मनोनीत उपराज्यपाल होता है। राज्य में 10,03,681 पंजीकृत मतदाता हैं। जिनमें से 4,72,736 पुरुष और 5,30,828 महिला मतदाता हैं। इसके अलावा 117 थर्ड जेंडर मतदाता हैं। सभी विधानसभा क्षेत्रों में महिलाओं की संख्या पुरुषों से ज्यादा है। पुडुचेरी में सरकार बनाने के लिए कम से कम 16 सीटें जीतकर बहुमत हासिल करना होता है।

Leave a Reply