ममता चोटिल: हमला, हादसा या राजनीतिक दांव

चुनाव आयोग ने जांच के दिये आदेश


नई दिल्ली
। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के चोटिल होने के बाद बुधवार को उनके गुस्साए समर्थक सड़कों पर उतर आए हैं। आज तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों ने इस घटना को हमला बताते हुए ट्रेनें रोकीं। समर्थकों और कार्यकर्ताओं ने आज सुबह कदमबागची रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों को रोका। यह रेलवे स्टेशन सियालदाह-हसनाबाद लाइन पर स्थित है।

क्या है मामला

बुधवार को ममता बनर्जी जब नंदीग्राम विधानसभा सीट के लिए अपना नामांकन दाखिल करने के बाद एक मंदिर पहुंची थीं। उसके बाद उन्होंने शाम 6 बजे करीब एक मंदिर के बाहर खुद पर हमला होने का आरोप लगाते हुए कहा कि, उनके पैर में चोट आई है। फिलहाल कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है।

टीएमसी करेगी चुनाव आयोग से शिकायत

तृणमूल कांग्रेस का कहना है कि वह चुनाव आयोग से इस घटना की शिकायत करेगी। वहीं निर्वाचन आयोग ने एक पैनल को घटनास्थल पर भेजने की बात कही है, वह इस पूरे मामले की जांच करेगा और साथ ही सुरक्षा व्यवस्था का जायजा भी लेगा, ताकि पूरे मामले की जानकारी मिल सके।

सीने में दर्द की शिकायत

कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल के निदेशक मणिमय बनर्जी ने कहा, ‘उन्हें बाएं पैर के टखने में चोट आई है। इसके अलावा दाएं कंधे पर भी चोट के निशान हैं। यही नहीं गले पर भी चोट आई है। उन्होंने सीने में दर्द और सांस में लेने में दिक्कत होने की भी शिकायत की है।’

Leave a Reply