घर लौटीं ममता : शोभनदेव ने दिया इस्तीफा, अब सीएम ममता लड़ेंगी पारम्परिक सीट भवानीपुर से उपचुनाव

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए विधानसभा उप-चुनाव का रास्ता खाली करते हुए राज्य की सत्ताधारी दल तृणमूल कांग्रेस नेता शोभन देव चट्टोपाध्याय ने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया है। वह भवानीपुर विधानसभा सीट से जीतकर विधानसभा पहुंचे थे। यह विधानसभा सीट मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पारंपरिक सीट रही है। ममता बनर्जी को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बने रहने के लिए छह महीने के भीतर फिर से विधानसभा के लिए निर्वाचित होना है।

विधानसभा अध्यक्ष को सौंपा अपना इस्तीफा

चट्टोपाध्याय ने औपचारिक रूप से पश्चिम बंगाल विधानसभा अध्यक्ष बिमान बंद्योपाध्याय को पार्टी नेता और राज्य मंत्री पार्थ चटर्जी और अन्य मंत्रियों की उपस्थिति में अपने विधानसभा कक्ष में अपना त्याग पत्र सौंपा। चट्टोपाध्याय ने इस्तीफा देने के बाद कहा, “मुख्यमंत्री को छह महीने के भीतर विधायक के रूप में निर्वाचित होना है। मैंने इस साल ममता बनर्जी के निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा था। आज मैं इस सीट से इस्तीफा दे रहा हूं ताकि वह भवानीपुर से निर्वाचित हो सकें। उन्होंने कहा, ” पार्टी और मैं खुद व्यक्तिगत रूप से यही चाहता हूं कि वह भवानीपुर से चुनाव लड़ें। वह अब मेरे राजनीतिक करियर के भविष्य का फैसला करेंगी।”

नंदीग्राम में शुभेंदु अधिकारी से हार गईं थी चुनाव

हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों में टीएमसी की आश्चर्यजनक जीत के बावजूद, बनर्जी नंदीग्राम में अपने पूर्व नायक-प्रतिद्वंद्वी शुभेंदु अधिकारी से चुनाव हार गईं। बता दें कि विधानसभा चुनाव से ठीक पहले शुभेंदु अधिकारी ने टीएमसी को छोड़कर बीजेपी ज्वॉइन की थी। 2016 के चुनावों में शुभेंदु अधिकारी ने नंदीग्राम सीट पर लेफ्ट के उम्मीदवार को बड़े अंतर से हराया था। अब 2021 में शुभेंदु ने टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी को 1953 मतों से हरा दिया।

चट्टोपाध्याय को राज्यसभा सांसद बनाया जा सकता है

इस बीच, सूत्रों के अनुसार, चट्टोपाध्याय को एक अलग निर्वाचन क्षेत्र से मैदान में उतारा जा सकता है क्योंकि मुर्शिदाबाद जिले की दो सीटों के लिए चुनाव कोविड -19 के कारण दो उम्मीदवारों की मौत के बाद स्थगित कर दिया गया है। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने यह भी दावा किया कि चट्टोपाध्याय को राज्यसभा सांसद बनाया जा सकता है।

Leave a Reply