टाटा मोटर्स की जेएलआर ने प्रस्तुत की चालक रहित कार की अवधारणा

अमर भारती : टाटा मोटर्स समूह की कंपनी जगुआर लैंड रोवर्स ने मंगलवार को भविष्य की चालक रहित कार की एक अवधारणा प्रस्तुत की। यह कार बिजली से चलेगी। इसका विकास मध्य इंग्लैंड में वार्विक विश्वविद्यालय में स्थापित कंपनी के नए नवप्रवर्तन केंद्र में किया गया है। यह कार एक मुख्य परियोजना में अलग से निकला उत्पाद बताया गया है।

जेएलआर के मुख्य कार्यपालक राल्फ स्पेथ ने बताया कि प्रोजेक्ट वेक्टर नाम की यह अवधारणा कार नव प्रवर्तन के क्षेत्र में जेएलआर की अग्रणी स्थिति दर्शाती है। इसका लक्ष्य समाज को अधिक सुरक्षित व स्वस्थ बनाना और पर्यावरण को अधिक स्वच्छ बनाना है। प्रोजेक्ट वेक्टर का विकास एक उन्नत, लचीली उपयोगी विद्युत वाहन के रूप में प्रस्तुत की जा रही है। बताया गया है कि यह कार अपने आप चल सकती है। यानी इसके लिए चालक की जरूरत नहीं होगी।

इसका विकास विश्वविद्यायल में स्थापित नेशनल आटोमोटिव एन्नोवेशन सेंटर (नाइक) में किया गया है। इस केंद्र का औपचारिक उद्घघाटन प्रिंस चार्ल्स ने किया। यह यूरोप में वाहन प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नवप्रवर्तन का अपने किस्म का सबसे बड़ा केंद्र केंद्र बताया जा रहा है। राल्फ ने इस अवसर पर अलग से कहा कि इस परियोजना के माध्यम से हम अकादमिक, आपूर्ति श्रृंखला और डिजिटल सेवा क्षेत्र के सबसे होनहार लोगों के साथ सहयोग कर रहे है। इसका उद्येश्य डिजिटल संपर्क के साथ संचालित समन्वित वाहन प्रणाली सृजित करना है। यह कंपनी की ‘डेस्टिनेशन जीरो’ (प्रदूषण शून्य) योजना की आधारशिला है।