अग्निशमन विभाग ने बताया, कैसे करें फायर डिस्टिंग्विशर का इस्तेमाल

अग्निकांडों में न हो जन और धन की हानि

गाजियाबाद। आने वाले महीनों अर्थात मार्च और अप्रैल में तेज हवा के कारण अग्निकांड होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। अग्निकांड से होने वाले जान और माल के नुकसान को बचाने के उद्देश्य से आज डब्लू सृष्टि राजनगर एक्सटेंशन स्थित आवासीय परिसर में अग्निशमन विभाग द्वारा सुरक्षा सम्बन्धी प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण के साथ ही, मॉकड्रिल की कार्यवाही कराई गई।

विभाग ने किया प्रशिक्षित
अग्निशमन विभाग, अग्निकांडों को रोकने के लिए काफी संवेदनशील है। आये दिन लोगों रिहायशी इलाकों से लेकर विभिन्न बड़े व्यापारिक संस्थानों में लोगों को इस बात के लिए प्रशिक्षित और जागरुक किया जाता है कि यदि कहीं कोई अग्निकांड हो तो लोग स्वयं को और अन्य लोगों को किस प्रकार बचाएं और सुरक्षित रहें।

कैसे करें फायर डिस्टिंग्विशर का इस्तेमाल
इसी क्रम में, अग्निकांड दौरान आपात स्थिति में सुरक्षित निकलने के तरीकों के बारे में डब्लू सृष्टि राजनगर एक्सटेंशन स्थित आवासीय परिसर में लोगों को एकत्रित कर अग्निशमन विभाग द्वारा जागरुक किया गया। लोगों को बताया गया कि आग बुझाने वाले सिलेण्डर (फायर डिस्टिंग्विशर) का ऐसे समय में प्रयोग कैसे करें। साथ ही, रिहायशी इलाके में यदि आग लगती है तो लोगों को सबसे पहले क्या और क्यों करना चाहिए।

गर्मी के लिए हो रही तैयारी

गर्मी के मौसम को देखते हुए अग्निशमन विभाग अग्निदुर्घटनाओ की रोकथाम के लिए विभिन्न उद्योगों में अग्निसुरक्षा ऑडिट कर रहा है एवं पायी जाने वाली कमियों के निराकरण हेतु स्वामी एवं प्रबन्धन को निर्देश व सुझाव दिए जा रहे हैं। साथ ही साथ मॉकड्रिल व अभ्यास भी कराया जा रहा है।

दमकलकर्मियों की लोगों ने की सराहना
गौरतलब है कि बीते दिनों पीपीई किट और मास्क फैक्ट्री में लगी आग के कारण एक व्यक्ति की जान चली गई थी, जबकि 13 अन्य झुलस गये थे। अग्निशमन विभाग की सक्रियता और क्रियाशीलता के चलते धधकती आग से लोगों को दमकलकर्मियों में बाहर निकाला था। मुख्य अग्निशमन अधिकारी सुनील कुमार सिंह के निर्देशन में फायरमैन्स ने अपनी जान की बाजी लगा कर लोगों की जान बचाई थी। जिसकी लोगों ने भूरि-भूरि प्रशंसा की थी।
विषय में बताया गया

Leave a Reply