तानाशाही: तुर्की में सरकार की आलोचना पर 10 रिटायर्ड एडमिरल गिरफ्तार

नई दिल्ली। तुर्की में सरकार की आलोचना करना 10 सेवानिवृत्त एडमिरल को भारी पड़ गया। सरकार की आलोचना करने के अपराध में सभी को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होनें एक खुले पत्र में सरकार के क्रियाकलापों को न सिर्फ तानाशाही रवैया बताया था, बल्कि इसे लोकतंत्र के लिए एक गहरा षडयंत्र भी करार दिया था।

पिछले महीने मिली  मंजूरी

ज्ञात हो कि पनामा या स्वेज नहरों की तुलना में इस्तांबुल में एक शिपिंग नहर विकसित करने की योजनाओं की पिछले महीने अंकारा की मंजूरी मिली थी। इस बारे में वर्ष 1936 के मॉन्ट्रो कन्वेंशन के बारे में बहस हुई। कनाल इस्तांबुल (इस्तांबुल नहर) राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने अपने ‘प्रोजेक्ट्स’ को सबसे महत्वाकांक्षी बताया है, जिसने उन्हें 18 साल की सत्ता में रहने के दौरान नए हवाई अड्डों, पुलों, सड़कों और सुरंगों का निर्माण करते देखा है।

बहस के लिए खोलना चिन्ताजनक

शनिवार को रात भर जारी किए गए अपने पत्र में, सेवानिवृत्त एडमिरलों ने कहा कि मॉन्ट्रो संधि को बहस के लिए खोलना ‘चिंताजनक’ था। मोंट्रेक्स कन्वेंशन शांति और युद्ध दोनों के समय में नागरिक जहाजों के बोस्फोरस और डार्डानेल्स जलडमरूमध्य के माध्यम से मुक्त मार्ग की गारंटी देता है। यह गैर-काला सागर राज्यों से सैन्य जहाजों द्वारा जलडमरूमध्य के उपयोग को भी नियंत्रित करता है।

2016 में हुईं 250 से अधिक मौतें

तुर्की में यूरोप और एशिया के बीच दो जलडमरूमध्य के बीच जलमार्ग समुद्री यातायात से भरा हुआ है और हाल के वर्षों में कई शिपिंग दुर्घटनाओं को देखा है। राष्ट्रपति के प्रवक्ता इब्राहिम कालिन ने ट्विटर पर कहा, उन्हें (आदिवासियों को) पता होना चाहिए कि हमारे सम्मानित राष्ट्र और उसके प्रतिनिधि इस मानसिकता को कभी नहीं बनने देंगे। सेना, जिसने लंबे समय तक खुद को देश के धर्मनिरपेक्ष संविधान के गारंटर के रूप में देखा, ने 1960 और 1980 के बीच तीन कूपनों का मंचन किया। 2016 में, एक असफल तख्तापलट के कारण 250 से अधिक मौतें हुईं।

Leave a Reply