डीजीसीआई ने भारत बायोटेक को कोवैक्सीन के ट्रायल की दी मंजूरी

नई दिल्ली। भारत में कोरोना की दूसरी लहर कितनी खतरनाक है इसे ध्यान में रखते हुए तीसरी लहर से लड़ने की तैयारी चल रही है। विशेषज्ञों के अनुसार तीसरी लहर का सबसे ज्यादा असर बच्चों पर पड़ेगा, इस बात को ध्यान में रखते हुए उन्हें बचाने की तैयारी शुरू हो चुकी है।

ट्रायल की मिली मंजूरी

बता दें कि भारत में जल्द ही बच्चों को वैक्सीन मुहैया कराई जाएगी, इसके वैक्सीन के ट्रायल की मंजूरी मिल गई है। ड्रग कंट्रोलर जेनलर ऑफ इंडिया के द्वारा आज भारत बायोटेक को 2 से 18 साल बच्चों को वैक्सीन देने के लिए कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरे फेज के लिए ट्रायल की मंजूरी दे दी गई है।

525 स्वस्थ वॉलंटियर्स के साथ परीक्षण

तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए विशेषज्ञ समिति ने इसकी सिफारिश की थी। बताया जा रहा है कि यह परीक्षण दिल्ली एवं पटना के एम्स और नागपुर स्थित मेडिट्रिना चिकित्सा विज्ञान संस्थान समेत विभिन्न स्थानों पर किया जाएगा। भारत बायोटेक के द्वारा यह परीक्षण 525 स्वस्थ वॉलंटियर्स के साथ किया जाएगा।

तीसरी लहर से पहले मिलेगी वैक्सीन

देश में अबतक सिर्फ 18 साल से अधिक उम्र वालों के लिए ही टीकाकरण की सुविधा मुहैया कराई जा रही है। लेकिन कोरोना की तीसरी लहर से पहले बच्चों के लिए भी देश में वैक्सीन उपलब्ध कराई जाएगी।

Leave a Reply