कोरोना को लेकर दिल्‍ली पुलिस हुई सतर्क, 50 से अधिक उम्र के पुलिसकर्मी अब रहेंगे घर पर

कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए दिल्ली पुलिस  भी काफी सावधानी बरत रही है।  पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव के ताजा फरमान के बाद इसे अमलीजामा पहनाया जा रहा है। 

दिल्ली पुलिस के आयुक्त स्पेशल सेल व क्राइम ब्रांच आदि सभी यूनिटों के डीसीपी को निर्देश दिए हैं कि वे अब ऑफिसों में एक कमरे में बैठकर मीटिंग लेना बंद कर दें और फोन पर ही मीटिंग लेने की प्रक्रिया शुरू करें। आयुक्त के साथ उच्च अधिकारियों की रोजाना  होने वाली बैठकों को भी काफी हद तक कम कर दिया गया है। साथ ही यूनिटों में तैनात 50 साल से अधिक उम्र के पुलिसकर्मियों को घर पर आराम करने की सलाह दी गई है।

मुख्यालय सूत्रों के अनुसार स्पेशल सेल, क्राइम ब्रांच, पीसीआर, स्पेशल ब्रांच, इंटेलीजेंस, विजिलेंस, लाइसेंसिंग ब्रांच, नारकोटिक्स सेल, आर्थिक अपराध शाखा व बटालियन पुलिस आदि यूनिटों में तैनात 50 साल से अधिक उम्र के पुलिसकर्मियों को अत्यधिक सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। आयुक्त ने कहा है कि उन्हें घर पर ही आराम करने दिया जाए। अगर संबंधित अधिकारियों को ऐसे पुलिसकर्मियों को किसी जरूरी काम के लिए कार्यालय बुलाने की जरूरत पड़े, तभी उन्हें बुलाया जाए।

ऐसा निर्णय इसलिए लिया गया है क्योंकि डॉक्टरों के मुताबिक कोरोना के संक्रमण का सबसे अधिक खतरा इस उम्र में ही हो सकता है। साथ ही इन यूनिटों में तैनात डीसीपी स्तर के अधिकारियों से कहा गया है कि वे कम से कम स्टाफ में काम चलाएं। जिन्हें ड्यूटी पर बुलाया जाना जरूरी है, उन्हीं को बुलाया जाए। स्टॉफ को रोटेशनवाइज ड्यूटी पर बुलाने की भी सलाह दी गई है। ड्यूटी पर उतने ही स्टॉफ को बुलाया जाए ताकि कोई अत्यंत जरूरी काम प्रभावित न हो।

दिल्ली के थानों में पुलिसकर्मियों की वैसे ही काफी कमी है। इसलिए थानों में तैनात पुलिसकर्मियों को इस तरह की छूट नहीं दी गई है। दरअसल, थाना पुलिस पर इलाके में कानून व्यवस्था को बनाए रखने की बड़ी जिम्मेदारी होती है। ऐसे में थाना पुलिस को अधिक से अधिक सतर्कता बरतने को कहा गया है। आयुक्त के सुझाव पर कई थानाध्यक्षों ने थानों में सुबह व शाम पुलिसकर्मियों को की जाने वाली ब्रीफिंग अब पार्को में कर रहे हैं।

भरत पांडेय