CoronaVirus Update: भारत में मौजूद चमगादड़ की इन दो प्रजातियों में मिला बैट कोरोना वायरस

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) द्वारा किए गए शोध में चौंकाने वाले परिणाम सामने आए हैं। ICMR ने दावा किया है कि एक अलग किस्म के कोरोना वायरस (चमगादड़ में पाया जाने वाला बैट कोरोना वायरस) का पता भारत में पाए जाने वाले चमगादड़ों की प्रजातियों में मिला है। इस वायरस को बीटीकोव भी कहते हैं। कोरोना वायरस वाली चमगादड़ की यह दो प्रजातियां केरल, हिमाचल प्रदेश, पुडुचेरी और तमिलनाडु में पाई जाती हैं।

चिकित्सा अनुसंधान के भारतीय शोध पत्र में प्रकाशित इस शोध में यह दावा किया गया है कि इस बात के कोई साक्ष्य या शोध मौजूद नहीं कि चमगादड़ में पाया जाने वाला यह वायरस इंसानों को संक्रमित कर सकता है। लेकिन चूंकि वायरस मिले तो इससे इंकार भी नहीं किया जा सकता कि ये चमगादड़ ये महामारी नहीं फैला रहे। दरअसल चमगादड़ में कई तरह के वायरस रहते हैं और समय-समय पर ये इंसानों के लिए घातक साबित हुए हैं। निपाह वायरस भी चमगादड़ में मिले थे तब भारत में इसका प्रकोप काफी फैला था।

शोधकर्ता और पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआइवी) की वैज्ञानिक डॉ. प्रज्ञा डी. यादव के अनुसार केरल, हिमाचल प्रदेश, पुडुचेरी और तमिलनाडु में रोसेटस और पेरोपस नामक प्रजाति के 25 चमगादड़ों में कोरोना के वायरस पाए गए हैं।