कुश्ती को गोद लेंगे सीएम योगी, दस साल तक उठाएंगे सारा खर्च

ओलंपिक पदक विजेताओं को प्रदेश में किया सम्मानित

Courtesy: ANI

नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक्स 2020 को खत्म हुए काफी दिन बीत चुके हैं। जिसमें भारतीय खिलाड़ी ओलंपिक्स के इतिहास में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दिखाने के बाद भारतियों के दिल में अपनी जगह बना कर अपने वतन लौट चुके हैं। जिसके बाद खिलाड़ियों का अपने गांव से लेकर राजधानी स्थित 7 लोक कल्याण मार्ग तक स्वागत हुआ। इसी कड़ी में बीते गुरूवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की राजधानी में ओलंपिक में पदक विजाताओं को सम्मानित किया। साथ ही प्रदेश में खेल की स्थिति को बेहतर करने के लिए कई महत्तवपूर्ण घोषणाएं भी की।

कुश्ती का खर्चा उठाएगी उत्तर प्रदेश सरकार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को घोषणा की कि राज्य सरकार कुश्ती समेत दो खेलों को गोद लेकर अगले 10 साल तक उनका वित्तपोषण करेगी। आपको बता दें कि साथ ही योगी आदित्यनाथ ने कुश्ती खेल में टोक्यो ओलंपिक्स में पदक जीत कर लौटे विजय दहिया को सीएम योगी ने डेढ़ करोड़ व बजरंग पुनिया को एक करोड़ रूपए की सम्मानित राशि दी।

नीरज चोपड़ा को मिले दो करोड़ रुपए

लखनऊ के अटल बिहारी वाजपेयी के इकाना स्टेडियम में आयोजित ओलंपिक पदक विजेताओं व शानदार प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों के सम्मान समारोह में सरकार द्वारा स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा को दो करोड़ रुपए की नकद पुरस्कार राशि दी गयी। साथ ही मीराबाई चानू को डेढ़ करोड़, बैडमिंटन में कांस्य पदक विजेता पीवी सिंधु, मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन को एक-एक करोड़ रूपए की राशि दी गई।

मेरठ में खुलेगी खेल यूनिवर्सिटी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मौके पर मंच से कहा कि- ‘उत्तर प्रदेश सरकार राज्य के हर गांव में एक खेल मैदान के निर्माण पर तेजी से काम कर रही है। मेरठ में खेल विश्वविद्यालय का भी निर्माण हो रहा है। प्रदेश सरकार मेजर ध्यानचंद के नाम पर एक खेल विश्वविद्यालय स्थापित करेगी। राज्य सरकार लखनऊ में एक कुश्ती अकादमी की भी स्थापना करेगी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published.