साँसों पर केंद्र का भेदभाव : ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ की तीसरी खेप पहुँची हरियाणा, राजस्थान को पहली बार मिली ‘प्राणवायु’

नई दिल्ली। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने एक ट्वीट में कहा कि, भारतीय रेल द्वारा हरियाणा के लिये चलाई गयी तीसरी ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ राउरकेला से फरीदाबाद पहुंच चुकी है। उन्होंने कहा, इससे राज्य में ऑक्सीजन की मात्रा में वृद्धि होगी और कोरोना रोगियों के लिये ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ेगी। जानकारी के लिए बता दें कि इस ट्रेन को राउरकेला स्टील प्लांट से 49.47 टन मेडिकल ऑक्सीजन के साथ गुरुवार को हरियाणा के लिए रवाना किया गया था।

राजस्थान को अब मिली ऑक्सीजन की पहली खेप

इसी क्रम में, गुजरात के हापा से चलाई गई पहली ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ शुक्रवार को राजस्थान के कोटा स्टेशन पर पहुंच गई। यह ट्रेन गुरुवार को तीन टैंकरों में 40.64 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) लेकर रवाना हुई थी। राजस्थान के लिए चलाई गई यह पहली ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी देते हुए कहा, राजस्थान में कोरोना रोगियों के लिये ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए हापा से कोटा के लिये चलाई गयी पहली ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ अपने गंतव्य पर पहुंच गई है।

अब तक चलीं 40 ऑक्सीजन एक्सप्रेस, 161 टैंकर डिलीवर

भारतीय रेलवे ने बताया कि उसने देश के विभिन्न राज्यों में अब तक 2,511 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन के 161 टैंकर डिलीवर किए हैं। रेलवे के मुताबिक 40 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन अब तक चली हैं जबकि मध्य प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान और दिल्ली के लिए 400 टन से अधिक लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ )के 22 टैंकर पहुंचाए जा रहे हैं।

इन राज्यों को मिली इतनी ऑक्सीजन

ऑक्सीजन एक्सप्रेस के द्वारा अब तक महाराष्ट्र को 174, उत्तर प्रदेश को 641, मध्यप्रदेश को 190, हरियाणा को 229, तेलंगाना को 123 और दिल्ली को 707 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन पहुंचाई गई है।

Leave a Reply