सामूहिक दुष्कर्म का झूठा मुकदमा दर्ज कराने वाले तीन लोगों पर मुकदमा

अमर भारती : औरंगाबाद थाने पर एक युवती के द्वारा झूठा सामूहिक दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराने के मामले में एसएसपी के आदेश पर युवती के ताऊ ताई और एक अन्य युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। युवती ने ही अपने बयानों में कहा है कि उसने अपने ताऊ ताई और एक अन्य युवक के कहने पर झूठी तहरीर दी थी। जिसके बाद पुलिस ने तीन युवकों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज किया था।  

औरंगाबाद थाना क्षेत्र के एक गांव की रहने वाली एक युवती ने 18 मार्च को थाने पर तहरीर दी की उसके साथ उसके गांव के ही रोहित पुत्र कन्हैयालाल, मोन्टी पुत्र फूल सिंह, विनोद पुत्र रतनपाल का साला जिसका नाम नही जानती है, के द्वारा सामूहिक दुष्कर्म किया गया है। इस सम्बंध में प्राथमिक जांच एवं गहनता से पूछताछ करने पर युवती (तथाकथित पीड़िता) द्वारा बताया गया कि उपरोक्त व्यक्तियों को झूठे मुकदमे में फंसाने के लिए उसके ताऊ-ताई व मनोज द्वारा उसे थाने भेजा गया है।

उसके साथ इस तरह की कोई भी घटना घटित नही हुई है। तथाकथित पीड़िता के बयानों की वीडियो रिकॉर्डिंग भी पुलिस ने की। युवती के बयानों और जांच रिपोर्ट के आधार पर अब पुलिस ने युवती के ताऊ सुन्दर-ताई किरन देवी व मनोज के खिलाफ थाना औरंगाबाद पर धारा 195 (झूठी सूचना देना), 120बी (षड्यंत्र रचना), 182 (ऐसे साक्ष्य देना जिससे दूसरे व्यक्ति को क्षति हो रही हो), 211 (अपराधी को अपने संरक्षण में रखना ) के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। हालांकि झूठा मुकदमा लिखवाने वाले तीनों आरोपी अभी फरार हैं। एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि भविष्य में भी यदि कोई इस तरह झूठा अपराध लिखाने की कोशिश करेगा तो उसके खिलाफ भी इसी तरह कार्रवाई की जाएगी।