थम गए बमों के धमाके : इजरायल और हमास के बीच युद्ध विराम शुरू

गाजा पट्टी को लेकर हो रहा था विवाद

नई दिल्ली। गाजा में इजरायल और हमास के बीच 11 दिन से जारी संघर्ष आज तड़के समाप्त हो गयी। इजरायल के सुरक्षा मंत्रिमंडल ने गाजा पट्टी में युद्ध विराम को मंजूरी दे दी है। इसके साथ ही वहां दशकों में अब तक के सर्वाधिक भीषण संघर्ष की समाप्ति हो रही है।

मिस्र की मध्यस्थता

इजरायल के सुरक्षा मंत्रिमंडल ने कहा कि मध्यस्थ मिस्र की पहल पर सर्वसम्मति से द्विपक्षीय और बिना शर्त के युद्ध विराम के पक्ष में सहमति हुई है।

युद्ध विराम के लिए बनी आपसी सहमति

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से लड़ाई समाप्त करने के अनुरोध और मिस्र, कतर, संयुक्त राष्ट्र की मध्यस्थता के एक दिन बाद यह प्रगति हुई है। हमास के अधिकारी ने मीडिया को बताया कि युद्ध विराम आपसी सहमति से हुआ है।

युद्ध विराम से प्रगति का अवसर – बाइडेन

संघर्ष विराम पर जो बाइडेन ने कहा कि, युद्ध विराम दोनों पक्षों के बीच प्रगति का अवसर लेकर आया है। उन्होंने कहा कि अमेरिका, संयुक्त राष्ट्र संघ के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध है और हम संयुक्त राष्ट्र और अन्य हितधारकों के साथ काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं, ताकि तेजी से मानवीय सहायता प्रदान की जा सके, साथ ही गाजा के लोगों और गाजा पुनर्निर्माण प्रयासों के लिए अंतरराष्ट्रीय समर्थन प्राप्त किया जा सके।

एंटोनियो गुटेरेस ने की सराहना

इस पहल पर संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि 11 दिनों की घातक शत्रुता के बाद गाजा और इजरायल के बीच युद्ध विराम का स्वागत करता हूं। उन्होंने कहा कि हिंसा से पीड़ित और उनके परिजनों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। इसके साथ ही उन्होंने मिस्र और कतर की सराहना की, जिससे गाजा और इजरायल में शांति बहाल करने में मदद मिली।

1900 से ज़्यादा हवाई हमले, 240 फ़लिस्तीनियों की मौत

गाजा में स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि 10 मई को शुरू हुई लड़ाई में 1900 से ज्यादा हवाई हमले किये गए। इनमें 65 बच्चों और 39 महिलाओं समेत 240 फिलिस्तीनी नागरिक मारे गये हैं। अधिकारियों ने बताया कि इस्राइल में 12 लोग मारे गये हैं। रॉकेट हमलों में घायल हुए सैकड़ों लोगों का इलाज किया जा रहा है।

जानिए, कब शुरू हुआ विवाद

इजरायल और हमास के बीच लड़ाई उस समय शुरू हुई थी जब हमास ने यरुशलम पर लंबी दूरी के रॉकेट दागे थे। इसके पहले अल-अक्सा मस्जिद में फिलिस्तीनी प्रदर्शनकारियों और इजराइली पुलिस के बीच झड़प हुई थी। रॉकेट हमले होने पर इजरायल ने हमास को निशाना बनाते हुए सैकड़ों हवाई हमले किए। बताया जा रहा है कि इस युद्ध में हमास ने इजरायल पर हजारों रॉकेट दागे। युद्ध में 240 से अधिक लोगों के मारे जाने और भारी तबाही की खबरें हैं।

Leave a Reply