‘देवदूत’ बने दमकलकर्मी और ‘बचा’ लीं 13 जानें

फैक्ट्री में विस्फोट से लगी आग में फंस गये थे कर्मचारी

बेसमेन्ट तक फैल चुकी थी आग, मालिक भी झुलसा

गाजियाबाद। बीते एक दिन पूर्व लिंक रोड थाना अंतर्गत साइट-4 स्थित पीपीई किट, मास्क और मेडिकल उपकरण बनाने की फैक्ट्री में शार्ट सर्किट से लगी आग का मंजर आज भी बीती रात की कहानी बयां कर रहा है। कहानी उस रात की, जब धमाके के साथ भीषण आग लग गई। फैक्ट्री में कार्यरत कई कर्मचारी आग में फंस गए। सूचना पर चंद लम्हों में पहुंची दमकल की एक दर्जन गाड़ियों और उन पर सवार कर्मियों ने लोगों की जान बचाने में अपनी जान दांव पर लगा दी।

दमकल के सायरन की आवाज से आई जान
बीती रात फैक्ट्री में शार्ट सर्किट से आग लग गई थी। आग के कारण केमिकल के ड्रम फट रहे थे। धमाकों की आवाज से आस-पास का पूरा क्षेत्र दहल रहा था। मानो, कहीं बम चल रहे हों। उस जलन से ज़्यादा डर था तो उस मौत का, जो आग के रूप में उनके सामने आ रही थी। लेकिन, उसी बीच हूटर, सायरन और घण्टी बजाती गाड़ियों की आवाज सुन उनमें भी जान आ गई थी। वे थे उत्तर प्रदेश अग्निशमन सेवा के वह दमकलकर्मी, जिन्होनें अपनी जान की परवाह न करते हुए न सिर्फ आग का बुझाया, बल्कि अंदर फंसे फैक्ट्री के कर्मचारियों को बाहर भी निकाला।

दमकलकर्मी बने जीवनदाता
हालांकि, आग की तेजी और लपट की गर्मी से कुछ लोग झुलस भी गये थे। लेकिन, उन्हें समय रहते इलाज हेतु यशोदा हास्पिटल और मैक्स अस्पताल भेज दिया गया था। मुख्य अग्निशमन अधिकारी सुनील सिंह की तत्परता, कर्मठता तथा निर्देशन और लीडिंग फायरमैन अरविन्द त्यागी, फायरमैन जोगेन्द्र कुमार, फायरमैन बलराम की कर्तव्यनिष्ठा की कहानी उस क्षेत्र के लोग बयां कर रहे हैं। ‘कर्म ही धर्म’ ध्येय को आत्मसात करने वाले ऐसे दमकलकर्मियों को स्थानीय लोगों ने भी दिल से सलाम किया।

जो हुआ था उस रात…
बृहस्पतिवार रात दो मंजिला फैक्ट्री में कई कर्मचारी काम कर रहे थे। रात करीब पौने नौ बजे अचानक से धमाके की आवाज आई। इसके बाद आग लग गई। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, फैक्ट्री के अंदर आग तेजी से फैल गई। चीख चिल्लाहट की आवाज आने लगी। आवाज सुनकर आसपास के फैक्ट्री के लोग वहां पहुंचे और पुलिस व दमकल को सूचना दी गई। सूचना मिलते ही दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंच गईं। दमकल कर्मियों ने आग बुझाने के साथ राहत कार्य शुरू किया।

आगे यह हुआ…
इसी बीच, पता चला कि फैक्ट्री के बेसमेंट समेत दो मंजिल में आग फैल चुकी है और करीब 14 लोग फंसे हुए हैं। दमकल की एक दर्जन गाड़ियां आग को बाहर और अंदर से बुझाने लगी। दमकलकर्मी कड़ी मशक्कत से फैक्ट्री के अंदर घुसे और सभी को किसी तरह बाहर निकाला। आग में फंसने के दौरान मालिक समेत 14 लोग झुलस गए। इनमें से एंबुलेंस से नौ घायलों को कौशांबी स्थित यशोदा अस्पताल और पांच घायलों को वैशाली स्थित मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिनमें, एक व्यक्ति ने दम तोड़ दिया।

Leave a Reply