कश्मीर में छद्म युद्ध के बाद पाक ने भारत और पीएम मोदी के खिलाफ फिर छेड़ा साइबर वॉर

भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने सोशल मीडिया संदेशों में भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने वाले एक समन्वित प्रयास के लिए लक्षित किया है, जिसमें पाकिस्तानी खुफिया तंत्र की “छाप” है। बुधवार को सरकार को सौंपे गए एक आकलन के अनुसार, इस प्रयास का उद्देश्य सोशल मीडिया में भारत विरोधी भावना की बाढ़ लाने वाले संदेशों को भेजना है, खासतौर पर खाड़ी देशों में। इसके लिए भारत में इस्लामोफोबिया पर झूठे प्रचार को फैलाकर पाकिस्तान सरकार कश्मीर में छद्म युद्ध के बाद अब साइबर युद्ध छेड़ना चाहती है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तानी डीप स्टेट पीएम मोदी पर हमला करके खाड़ी में भारत और एक करीबी सहयोगी के बीच फूट डालने की कोशिश कर रहा है। बताते चलें कि पीएम मोदी ने मध्य-पूर्व के साथ भारत के संबंधों को गहरा करने के लिए भारी निवेश किया है। नॉर्थ ब्लॉक द्वारा किए गए मूल्यांकन में पाकिस्तान और खाड़ी देशों में ट्रोल हैंडल की एक लंबी सूची मिली है, जो इस मकसद को हासिल करने के लिए इस्तेमाल किए जा रहे थे।

नई दिल्ली को निशाना बनाने वाले सोशल मीडिया संदेशों की बाढ़ कोई पहली बार नहीं आई है। सुरक्षा अधिकारियों ने पिछले साल भी इसी तरह के पैटर्न पर ध्यान दिया था, जब जम्मू और कश्मीर को पिछले अगस्त में एक संचार लॉकडाउन किया गया था। दरअसल, संसद ने जम्मू और कश्मीर को संविधान के तहत दिए गए विशेष राज्य के दर्जे को हटाने से पहले सुरक्षा कारणों से कश्मीर घाटी में इंटरनेट और मोबाइल सेवा बंद कर दी थी।