बारिश-आंधी में उड़ा रामलला के गर्भ गृह की छत का एक हिस्सा

कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार के बीच मंगलवार शाम अयोध्या का मौसम बिगड़ गया और यहां बेमौसम बारिश हो गई। यहां तेज आंधी और बौछार के बीच रामलला के वैकल्पिक गर्भ गृह की छत का एक कोना उड़ गया। यह छत प्लास्टिक शीट की थी और इसे नट-बोल्ट की मदद से लगाया गया था। उधर अयोध्या इस बारिश के साथ कई इलाकों में ओले भी पड़े और फसलों को नुकसान भी हुआ है।

मौसम वैज्ञानिकों ने अगले कुछ और दिन तक बारिश की संभावना जताई है। फिलहाल बता दें कि इसी 25 मार्च को रामलला अपने मूल गर्भ गृह से वैकल्पिक गर्भ गृह में लाए गए थे। स्थानांतरण से कुछ दिन पहले ही रामलला का वैकल्पिक गर्भ गृह तैयार किया गया था। इस गर्भ गृह को लेकर मजबूती के दावे और युद्धस्तर पर किए गए प्रयास का दावा किया गया था। प्रबंधन का कहना है कि गर्भ गृह बुलेट प्रूफ है और इसे आतंकी हमले की दृष्टि से बेहद मजबूत बनाया गया है। बारिश के कारण इस गर्भ गृह पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है और वो पूरी तरह सुरक्षित है।

प्रबंधन ने बताया कि आंधी में उड़ी प्लास्टिक शीट 432 वर्ग फीट में बने बुलेट प्रूफ स्ट्रक्चर को बंदरों के मल-मूत्र आदि से बचाने के लिए निर्मित लोहे के ढांचे के ऊपर लगाई गई थी। तेज बारिश के कारण ये शीट ही उड़ गई। जिलाधिकारी एवं राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के ट्रस्टी अनुज कुमार झा के अनुसार बुलेट प्रूफ गर्भ गृह पूरी तरह से सुरक्षित है। जिस ढांचे के ऊपर की प्लास्टिक शीट उड़ी है, उससे बुलेट प्रूफ गर्भगृह को बंदरों से बचाने के लिए कवर किया गया था।