3 दिन में 3 हजार यात्रियों ने रद्द कराया रेल टिकट, रिफंड देने कम पड़ा पैसा

अमर भारती :  इन दिनों रेलवे के रिजर्वेशन काउंटर पर लोगों की भीड़ बढ़ गई है, लेकिन यह भीड़ रिजर्वेशन कराने वालों से ज्यादा रिजर्वेशन टिकट रद्द कराने वालों की है। कोरोना वायरस के दहशत की वजह से यात्रियों में इतना डर है कि उन्होंने मार्च और अप्रैल के दौरान अपनी ट्रेन की यात्रा रद्द कर दी है।

जबलपुर रेलवे स्टेशन के आरक्षण केंद्र में पिछले तीन दिनों में 3 हजार से ज्यादा यात्रियों ने रिजर्वेशन टिकट रद्द कराई है। इन यात्रियों को काउंटर से तकरीबन तकरीबन 10 लाख रुपए का रिफंड किया गया है। हालात यह हैं कि रिजर्वेशन काउंटर रद्द करने के दौरान रिफंड देने के लिए रेलवे के पास नकदी की कमी आई गई है।

मंगलवार को इतने यात्रियों ने कराई टिकट रद्द

कोरोना के डर से पिछले तीन से चार दिनों के दौरान टिकट कराने वालों की तुलना में टिकट रद्द कराने वालों की संख्या बढ़ी है। रविवार को दोपहर 2 बजे तक तकरीबन साढ़े 8 सौ यात्रियों ने टिकट रद्द कराई। सोमवार रात 8 बजे तक 1170 यात्रियों ने अपनी रिजर्वेशन टिकट रद्द कराई। इस दौरान तकरीबन साढ़े चार लाख रुपए का रिफंड यात्रियों को दिया गया। वहीं मंगलवार रात 7 बजे तक तकरीबन 850 यात्रियों ने टिकट रद्द कराई, जिन्हें लगभग साढ़े तीन लाख रुपए का रिफंड दिया गया।