अमर भारती : स्पिनर राधा यादव की करियर की सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी और युवा सलामी बल्लेबाज शेफाली वर्मा की एक और धमाकेदार पारी से भारत ने शनिवार को यहां श्रीलंका को 32 गेंद शेष रहते हुए सात विकेट से करारी शिकस्त देकर आईसीसी महिला टी20 विश्व कप में अपना विजय अभियान जारी रखा और ग्रुप ए में शीर्ष स्थान सुनिश्चित किया। राधा ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 23 रन देकर चार विकेट लिये जिससे भारत ने श्रीलंका को नौ विकेट पर 113 रन ही बनाने दिये।

भारतीय टीम ने 14.4 ओवर में तीन विकेट पर 116 रन बनाकर आसान जीत दर्ज की। सोलह वर्षीय शेफाली फिर से अर्धशतक से चूक गयी लेकिन उनकी 34 गेंदों पर सात चौकों और एक छक्के की मदद से खेली गयी 47 रन पारी से भारत एकतरफा जीत हासिल करने में सफल रहा। भारतीय टीम पहले ही सेमीफाइनल में अपनी जगह पक्की कर चुकी थी लेकिन इस जीत से उसका ग्रुप ए में शीर्ष स्थान सुनिश्चित हो गया। भारत ने लीग चरण में अपने सभी चारों मैच जीते और इस तरह से उसने आठ अंक हासिल किये। अब उसकी टीम बढ़े मनोबल के साथ सेमीफाइनल में उतरेगी। श्रीलंका की यह लगातार तीसरी हार है।

भारत के सामने छोटा लक्ष्य था और ऐसे में शेफाली और स्मृति मंधाना (12 गेंद पर 17 रन) ने आक्रामक तेवर अपनाये। इन दोनों ने पहले विकेट के लिये 34 रन जोड़े। मंधाना ने मिड आन पर कैच देने बाद कप्तान हरमनप्रीत कौर (14 गेंद पर 15) क्रीज पर उतरी। उन्होंने दो चौके और एक छक्का जड़कर अपना असली रंग दिखाया लेकिन वह सेमीफाइनल से पहले लंबी पारी नहीं खेल पायी। हरमनप्रीत ने लांग आन के ऊपर से लंबा शाट खेलने के प्रयास में सीमा रेखा पर कैच दिया। सभी की निगाहें हालांकि शेफाली पर टिकी थी जो टूर्नामेंट में अपने पहले अर्धशतक की तरफ बढ़ रही थी लेकिन विकेटों के बीच धीमी दौड़ के कारण वह रन आउट हो गयी।

इसके बाद जेमिमा रोड्रिग्स (15) और दीप्ति शर्मा (15) ने टीम को लक्ष्य तक पहुंचाया। इससे पहले राधा के गेंद संभालने के बाद श्रीलंका की पारी चरमरा दी। बायें हाथ की इस स्पिनर ने कप्तान चमारी अटापट्टू का महत्वपूर्ण विकेट भी लिया जिन्होंने श्रीलंका की तरफ से सर्वाधिक 33 रन बनाये। उन्हें राजेश्वरी गायकवाड़ (18 रन देकर दो) का भी अच्छा सहयोग मिला। पूनम यादव, शिखा पांडे और दीप्ति शर्मा ने एक एक विकेट लिया। श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी का फैसला किया लेकिन उसने तीसरे ओवर में ही सलामी बल्लेबाज उमेशा तिमासिनी (दो) का विकेट गंवा दिया जिन्हें दीप्ति की गेंद पर राजेश्वरी ने कैच किया।

कप्तान अटापट्टू ने आक्रामक रवैया अपनाये रखा तथा पांच चौके और एक छक्का लगाया। उन्होंने हर्षिता मदावी (12) के साथ 30 रन की साझेदारी की। राजेश्वरी ने आठवें ओवर में मदावी को आउट किया। राधा नौवें ओवर में गेंदबाजी के लिये आयी और श्रीलंकाई कप्तान ने छक्का जड़कर उनका स्वागत किया लेकिन वह अगली गेंद पर वह डीप स्क्वायर लेग पर कैच दे बैठी। इसके बाद श्रीलंकाई पारी बिखर गयी। शशिकला श्रीवर्धना ने 13 रन बनाये जबकि निचले क्रम में कविशा दिलहारी (16 गेंदों पर नाबाद 25) की पारी से श्रीलंका 100 रन के पार पहुंच पाया।