अमर भारती : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गंगा की निर्मलता और अविरलता पर बैठक करने के लिए कानपुर पहुंच गए हैं। कानपुर एयरपोर्ट पहुंचने पर पीएम का सीएम योगी आदित्यनाथ व मंत्रीयों ने स्वागत किया। इसके बाद पीएम मोदी हेलीकॉप्टर से सीएसए कॉलेज पहुंचे। चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने के बाद पीएम मोदी सीएम योगी के साथ पैदल ही मीटिंग रूम तक पहुंचे।

बैठक से दो दिन पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सीसामऊ का नाला गंगा में गिरता था, इसके लिए कानपुर के लोगों को हमेशा मलाल रहता था कि कानपुर के कारण गंगा जी प्रदूषित हो रही है। प्रधानमंत्री की प्रेरणा से नमामि गंगे परियोजना से जो काम हुआ है, उसका परिणाम है कि सीवर गिरने की जगह वहां आज सेल्फी प्वाइंट बन गया है। कानपुर में मां गंगा का पानी अचानक लायक हो गया है। यह सौभाग्य की बात है।बैठक में दो राज्यों यूपी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री, बिहार, यूपी के उप मुख्यमंत्री, केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के अलावा गंगा किनारे स्थित सभी पांच राज्यों के कई मंत्री, मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव और एनएमसीजी के महानिदेशक राजीव रंजन मिश्र सहित 40 से अधिक प्रमुख लोग मौजूद हैं।

नमामि गंगा प्रोजेक्ट पर आयोजित इस बैठक में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत शामिल हैं इस बैठक में नीतीश कुमार का पहुंचना तय था, बिहार सीएम नीतीश कुमार के स्वागत में पोस्टर लग चुके थे, लेकिन नीतीश कुमार ने अपना कानपुर दौरा अचानक रद्द कर दिया। नीतीश कुमार की जगह डिप्टी सीएम सुशील मोदी बैठक में पहुंचे हैं।

बैठक के बाद प्रधानमंत्री मोदी मुख्यमंत्रियों, मंत्रियों और अधिकारियों के साथ अटल घाट से मोटर बोट के जरिए गंगा का निरीक्षण करेंगे। इस दौरान वे सीसामऊ नाले के पास खड़े होकर सेल्फी लेंगे।