अमर भारती : उन्नाव पीड़िता ने बीती रात दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में करीब 11:40 पर अपनी आखिरी सासें ली। पीड़िता तकरीबन 90 प्रतिशत जली हुई थी, जिसके बाद उसे लखनऊ के सिवील अस्पताल से एयरलिफ्ट द्वारा दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल ले जाया गया। पीड़िता के भाई ने बताया कि वह मरना नहीं चाहती थी बल्कि अपने आरोपियों को फांसी पर लटका देखना चाहती थी। अब इस घटना के बाद सपा सुप्रिमो अखिलेश यादव विधानसभा के सामने धरने पर बैठे थे, और उनका ये धरना खत्म हो चुका है।

 

उन्नाव की बेटी के लिए अखिलेश यादव ने 2 मिनट का मौन रखा था। इस दौरान भी अखिलेश ने योगी सरकार पर निशाने साधते हुए बताया कि ‘ इस सरकार में यह पहली घटना नही उन्नाव की घटना प्रदेश में पहली नही उन्नाव की घटना भयानक दर्द देती है। आज हमारे लिये काला दिवस है डॉक्टरों की कोशिश से भी जान नही बची सपा कल पूरे सूबे में विरोध दिवस मनाएगी, जिलों और महानगरों में शांतिपूर्ण धरना होगा। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ चर्चा कर आगे का रोड मैप बताऊंगा। इस सरकार में ना बेटियां सुरक्षित है ना उनका सम्मान सुरक्षित है। क्या यही भारतीय जनता पार्टी का नारा था, देश के राष्ट्रपति इस प्रेस ने दी है। यह बात मैंने कितनी बार कही होगी देश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार उत्तर प्रदेश से ही बनी है पिछली बार भी उत्तर प्रदेश से ही बनी थी हमने दुनिया की सबसे बेहतरीन जोरदार दी थी , 1090  सुविधा से क्या दिक्कत है’।