अमर भारती : आज के समय में घटनाओं को देखते हुए ऐसा लग रहा है देश में कानून व प्रशासन का कोई महत्व नहीं है न कोई डर है पूरे देश में इस समय रेप के बाद हत्या करने जैसी खबरें लगातार कहीं न कहीं से सामने आ रहीं हैं हैदराबाद में महिला डॉक्टर की रेप के बाद जलाकर हत्या कर देना उसके बाद उन्नाव से भी ऐसी घटना से हड़कंप मचा हुआ है।

उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता को गुरुवार चार बजे वह रायबरेली जाने के लिए ट्रेन पकड़ने बैसवारा बिहार रेलवे स्टेशन जा रही थी। गौरा मोड़ पर गांव के हरिशंकर त्रिवेदी, किशोर शुभम, शिवम, उमेश ने घेर लिया और सिर पर डंडे से और गले पर चाकू से वार किया। शोर मचाने पर भीड़ को आता देख वह भाग निकले। मिली जानकारी के अनुसार दुष्कर्म पीड़िता रायबरेली मामले की पेशी के लिए जा रही थी।सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने पीड़िता को जिला अस्पताल पहुंचाया। जहां पीड़िता की हालत गंभीर देख कानपुर हैलट रेफर कर किया गया। कानपुर के बाद अब पीड़िता को लखनऊ रेफर कर दिया गया है।

एसपी विक्रांत वीर ने बताया कि घटना के तत्काल बाद पीड़िता के बयान के आधार पर तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। दो आरोपियों की तलाश के लिए चार टीमें बनाई गई हैं। सिविल अस्पताल के प्लास्टिक सर्जन डॉ. प्रदीप तिवारी पीड़िता का इलाज कर रहे हैं। डॉ. डीएस नेगी का कहना है कि पीड़िता 90 प्रतिशत जल चुकी है वरिष्ठ अधिकारीगण मौके पर मौजूद हैं। घटना की गहन तफ्तीश की जा रही है।