अमर भारती : देश की राजधानी दिल्ली में लोगो के लिए साफ पानी होने का हमेशा से दावा किया जाता रहा है लेकिन कई बार पानी में कमी देखी गई है। लेकिन अब एनजीटी ने मामले को गंभीरता से लेते हुए दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण कमेटी से नदी के पानी पर एक रिपोर्ट तैयार करने को कहा है।

बता दें कि इस रिपोर्ट में पिछले पांच साल के दौरान पानी की गुणवत्ता को लेकर डाटा मांगा गया है। दिल्ली में पानी की गुणवत्ता निगरानी के लिए कुछ केंद्र बनाए गए है जहां पर कि नजर रखी जाती है। वैसे इस सब के बीत यह सवाल भी उठता है कि आज भी राजधानी के लोगों को साफ पानी क्यो नहीं मिल पाता है और सरकार स्थिति को समझ नहीं पाती है।

जबकि इससे पहले डीपीसीसी ने भी इस कमेटी को सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट से निकलने वाले पानी के साफ न होने की जानकारी दे चुका है। जिसके चलते अब एनजीटी ने यह कदम उठाया है। इसके बाद अब सरकार के अधिकारियों से भी खुद से ट्रीटमेंट प्लांट का दौरा करने के लिए कहा गया है।

गौरतलब है कि अब इस रिपोर्ट में जो भी सामने निकल कर आएगा, उसके आधार पर ही इसमें कुछ सुधार किया जा सकता है। साथ ही अब यह भी देखना होगा कि रिपोर्ट के सामने आने पर कितने अधिकारी इसके लिए जिम्मेदार होंगे।