अमर भारती :  उत्तर प्रदेश के विकलांग जन विकास एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की बसों में दिव्यांगों को निशुल्क यात्रा की सुविधा मिलेगी, दिव्यांगों के लिए हर जनपद में विद्यालय खोलने की भी योजना है। बता दें कि अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग दिवस के अवसर पर नारायणबगड़ विकासखंड में समाज कल्याण विभाग के द्वारा 03 दिसंबर को दिव्यांग मतदाता जागरूकता कार्यक्रम शिविर का आयोजन किया जायेगा।

भारतीय जनता पार्टी मुख्यालय में जनता की समस्याओं को सुनने के बाद पत्रकारों से बातचीत में मंत्री ने कहा, “पिछले दस वर्षों से दिव्यांगों की पेंशन नहीं बढ़ाई गई थी, जिन दिव्यांगों की पेंशन 300 रुपये थी, उनकी अब 500 रुपये प्रतिमाह कर दी गई है।राजभर ने कहा, हमारी सोच है कि अंबेडकर पार्क में बाबा साहेब के साथ ही महाराज सुहेल देव, अहिल्याबाई, दक्ष प्रजापति आदि महापुरुषों की भी प्रतिभाएं लगें, ताकि नई पीढ़ी बाबा साहब अंबेडकर के साथ ही अन्य महापुरुषों के जीवन से प्रेरणा ले सकें समाज के असहाय, सुविधाविहीन एवं कमजोर वित्तीय स्थिति वाले दिव्यांगजनों के सर्वांगीण विकास एवं उनके लाभ तथा सहायता के लिए बनाई गयी योजनाओं के सुचारू संचालन हेतु प्रदेश सरकार द्वारा 20 सितम्बर, 1995 को दिव्यान्गजन सशक्तिकरण विभाग का गठन किया गया।

भारत की जनगणना वर्ष 2011 के अनुसार उत्तर प्रदेश में विभिन्न निःशक्तताओं से ग्रसित कुल व्यक्तियों की संख्या 4157514 है। जो प्रदेश की कुल जनसंख्या का लगभग 2.08 प्रतिशत है। इसमें दृष्टि निःशक्तता, वाक् निःशक्तता, श्रवण निःशक्तता, अस्थि निःशक्तता, मानसिक मंदित, मानसिक रूग्ण, बहु निःशक्तता एवं अन्य निःशक्तता से ग्रसित व्यक्ति शामिल हैं। यूपी सरकार दिव्यांगों का एक लाख रुपए तक का कर्ज माफ करेगी, यह घोषणा उत्तर प्रदेश के पिछड़ा वर्ग एवं विकलांग कल्याण मंत्री ने रविवार को की, साथ ही उन्होंने कहा कि पिछड़ा वर्ग और दलित वर्ग में अति पिछड़ा और अति दलित की नई श्रेणी बनाने की कवायद की जा रही है। राजभर ने कहा कि योगी सरकार दलित और पिछड़े वर्ग की उपेक्षित जातियों को न्याय दिलाने के लिए विशेष पहल करने जा रही है।