अमर भारती : उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्धनगर में होमगार्डों की फर्जी ड्यूटी दिखाकर करोड़ों के वेतन घोटाले के खुलासा सामने आया है। और अब इसके सात दिन बाद ही फर्जीवाड़े की फाइलों में सोमवार रात आग लगा दी गई। बुधवार को इस मामले में पांच गिरफ्तारियां हुई हैं।

दरअसल इस मामले में वर्तमान डिविजनल कमांडेंट होमगार्ड राम नारायण चौरसिया, असिस्टेंट कंपनी कमांडर सतीश, प्लाटून कमांडर मोंटू, सतवीर और शैलेंद्र को गिरफ्तार किया गया है। आरोपियों ने किस तरह से पूरी वारदात को अंजाम दिया इसका ब्योरा उन्होंने स्थानीय पुलिस को पूछताछ के दौरान दिया है।

घोटाले में फंसे आरोपियों ने सुबूत मिटाने के लिए सूरजपुर स्थित होमगार्ड कमांडेंट दफ्तर में ब्लॉक आर्गनाइजर कक्ष का ताला तोड़कर 2014 तक के दस्तावेज जला दिए। मंगलवार सुबह आगजनी की सूचना से एकदम भगधड़ मच गई।

एसएसपी वैभव कृष्ण ने एफआईआर के आदेश दिए और जांच के लिए एसपी सिटी के नेतृत्व में एसआईटी गठित की। इसके बाद पुलिस ने प्लाटून कमांडर व दो हामगार्ड को हिरासत में लिया था। वहीं, सीएम योगी आदित्यनाथ ने दोषियों पर तुरंत सख्त कार्यवाही की मांग की है। उन्होंने आगजनी की जांच फोरेंसिक विशेषज्ञों से कराने को कहा है।