अमर भारती : देश की राजधानी दिल्ली का प्रदूषण अब पूरे देश के लिए चिंता का विषय बन गया है। लेकिन अब इसको ध्यान में रखते हुए अभिभावकों ने स्कूलों छुट्टी को लेकर हैरान करने वाली इच्छा जताई है। दरअसल दिल्ली-एनसीआर के 74 फीसदी लोग चाहते हैं कि स्मॉग के दौरान स्कूलों में हर साल 1 से 20 नवंबर तक नियमित छुट्टी घोषित कर दी जाए। एक ताजा सर्वेक्षण में इस बात का खुलासा हुआ है।

बता दें कि ऑनलाइन प्लेटफॉर्म ‘लोकल सर्कल्स’ द्वारा किए गए सर्वे में दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम और फरीदाबाद के करीब 10,000 अभिभावकों ने कहा कि स्मॉग के दौरान दी जाने वाली छुट्टियों की भरपाई गर्मी, सर्दी और अन्य छुट्टियों में कटौती करके की जा सकती है। इससे बच्चों की पढ़ाई पर कोई असर भी नहीं होगा। दरअसल अतिरिक्त छुट्टियों से पढ़ाई को होने वाले नुकसान से बचने के लिए अभिभावकों ने ये अपील की है।

इससे पहले 1 नवंबर को वायु प्रदूषण के आपात स्तर पर पहुंचने के कारण सुप्रीम कोर्ट की समिति ईपीसीए ने हेल्थ इमर्जेंसी घोषित करते हुए 5 नवंबर तक स्कूल बंद करने का आदेश दिया था। इसका कारण स्कूली बच्चों पर इस हवा का पड़ता है सबसे खराब असर जो कि उनके लिए हानिकारक है।

इस साल प्रदूषण की खराब हालत के चलते स्कूलों में बाल दिवस का आयोजन नहीं किया गया था। पिछले माह एक ऐसे ही सर्वे में दिल्ली-एनसीआर के 40 फीसदी से ज्यादा लोगों ने कहा था कि जहरीली हवा के कारण वह अन्य शहरों में जाना चाहते हैं।