अमर भारती : भाजपा के बहुमत साबित ना कर पाने और शिवसेना-कांग्रेस और एनसीपी के बीच सरकार बनाने को लेकर हुई सहमति से अब महाराष्ट्र में गैर बीजेपी का मुख्यमंत्री बनना तय हो गया है, पर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे में से कौन मुख्यमंत्री बनेगा यह तस्वीर अभी तक साफ नहीं हुई है । हालांकि शिवसेना ने आदित्य ठाकरे को आगे कर चुनाव लड़ा था, लेकिन बीजेपी से रिश्ता खत्म होने के बाद कांग्रेस और एनसीपी जैसे राजनीतिक दलों के साथ मिलकर सरकार बना रही है ।

सरकार बनाने में सहमति

महाराष्ट्र सरकार बनाने को लेकर शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के बीच लगातार बातचीत चल रही है, तीनों दलों के बीच सहमति बनने के बाद यह तय हुआ कि शिवसेना को पूरे कार्यकाल के लिए मुख्यमंत्री पद मिलेगा, जबकि कांग्रेस और एनसीपी के एक-एक डिप्टी सीएम होंगे. इसके अलावा मंत्रिमंडल में एनसीपी को 14, कांग्रेस को 12 मंत्री पद मिलेंगे. वहीं, शिवसेना के खाते में से मुख्यमंत्री पद के अलावा 14 मंत्री बनाए जाने की सहमति बनी है

शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के बीच सरकार बनाने का फॉर्मूला तय हो जाने के बाद ‘ठाकरे परिवार’ से मुख्यमंत्री बनना तय हो गया है, पर ठाकरे परिवार में किसका नाम सीएम पद के लिये आगे आयेगा ये अभी तय होना बाकि है । हांलाकि शिवसेना ने आदित्य ठाकरे के नाम पर चुनाव लड़ा था आदित्य मुंबई की वर्ली विधानसभा सीट से चुनाव जीतकर भी आये ।

शिवसेना के सरकार बनने के बाद नेताओं के साथ तालमेल बैठाना शिवसेना के लिये सबसे बड़ी चुनौती होगी । शिवसेना के पास भाजपा जैसा मजबूत विपक्ष है जो सबसे बड़ी चुनौती होगी, महाराष्ट्र की राजनीति आगे किस मोड़ पर जाएगी ये तो आने वाला वक्त ही बतायेगा ।

रिपोर्ट – शक्ति ओझा