अमर भारती : अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आखिरकार अपना फैसला सुना ही दिया। जो मामला आजादी के पहले से चलता आ रहा था, आखिरकार इस मामले में पुर्णविराम लग गया। सुप्रीम कोर्ट के फैसले का कई लोगों ने सम्मान किया तो कई लोग इस फैसले से सहमत नहीं है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई में संवैधानिक पीठ ने फैसला सुनाते हुए निर्मोही अखाड़ा और शिया वक्फ बोर्ड का दावा खारिज कर दिया है। अयोध्या में रामजन्मभूमि न्यास को विवादित जमीन दी गई है। साथ ही मुस्लिम पक्ष को अलग जगह जमीन देने का आदेश दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को ट्रस्ट बनाने का आदेश दिया है।

हालाकि कुछ ऐसी बड़ी बातें हैं जो है SC  द्वारा फैसले के दौरान सामने आईं हैं। जैसें:-

अयोध्या मामले में राम मंदिर का रास्ता साफ

विवादित जमीन पर रामजन्मभुमि न्यास का हक

पक्षकार गोपाल विशारद को मिला पूजा-पाठ का अधिकार

तीन महीने में केंद्र सरकार करेगी मंदिर ट्रस्ट का गठन

राम मंदिर निर्माण की रूपरेखा तैयार करेगा नया ट्रस्ट

मुस्लिम पक्ष को जमीन देने की जिम्मेदारी योगी सरकार की

आस्था और विश्वास पर नहीं, कानून के आधार पर फैसला

सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन दुसरी जगह मिलेगी