अमर भारती : अयोध्या फैसले पर गाजियाबाद के प्रसिद्ध भगवान दूधेश्वर नाथ मठ मंदिर के महंत एवं महामंडलेश्वर श्री महंत नारायण गिरी जी महाराज ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा। कि जिस तरह सर्वोच्च न्यायालय द्वारा फैसला सुनाया गया है। उसका सभी साधु संत समाज स्वागत करता है। इस फैसले के बाद ना किसी को खुशी ना किसी को गम वाली बात है। सभी को शांति सौहार्द बनाए रखना चाहिए । सबसे बड़ी बात यह है कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा यह माना गया है कि जन्मस्थान कभी बदला नहीं जा सकता।

शुरू से अब तक के तमाम बातों को ध्यान में रखते हुए सर्वोच्च न्यायालय द्वारा भी यही माना गया।  मर्यादा पुरुषोत्तम श्री भगवान राम का जन्म उसी स्थान पर हुआ था । यही धारणा और विश्वास पूरे हिंदू समाज के लोगों की है ।इसलिए सर्वोच्च न्यायालय द्वारा विवादित स्थल रामलला के पक्ष में किया।  दूसरी तरफ सर्वोच्च न्यायालय द्वारा मुस्लिम पक्ष का भी पूरी तरह ख्याल रखा गया है। मुस्लिम पक्ष को भी 5 एकड़ भूमि मस्जिद मस्जिद बनाए जाने के लिए दिए जाने का फैसला सुनाया है। इसलिए दोनों ही पक्षों का इस फैसले में ध्यान रखा गया है। जो वाकई तारीफ ए काबिल है और इस फैसले का हम सभी लोग  स्वागत करते हैं।