अमर भारतीः उत्तर प्रदेश में लगातार खराब होती हवा से लोगो को सांस लेने में बड़ रही दिक्कतों को देखते हुए। उत्तर प्रदेश के पर्यावरण मंञी दारा सिंह ने डी.जी.पी. और ट्रेफिक पुलिस को जल्द इस फार्मुले को लागू करने के निर्देश दिए है। यह फैसला पर्यावरण मंञी ने मुख्यमंञी योगी आदित्यनाथ के साथ की गई अहम बैठक के बाद लिया।

 

दरअसल यह फैसला दिल्ली में लगातार खराब होती हवा। जिसके के बाद पूरा दिल्ली एक गैस चैम्बर की तरह मालूम पड़ रहा है। जहां पर सांस लेना बहुत मुश्किल होता जा रहा है। उसी स्थिति में अब पडोसी राज्य उत्तर प्रदेश कि हालत होती जा रही है। जहां पर राजधानी लखनऊ में कल का AQI (AIR QUALITY INDEX) 422 तक पहुँच गया था। जो अब तक का सबसे ज्यादा है।

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को गम्भीरता से लेते हुए। तीन प्रदेशों यू.पी., दिल्ली, पंजाब के मुख्य सचिवो को बुधवार तक तलब किया है। सुप्रीम कोर्ट नें सख्त निर्देश देते हुए किसानो द्वारा जलाई जा रही पराली पर त्वरीत कारवाई कर रोक लगाने के निर्देश भी दिए है। और उसके जलते पाए जाने पर राज्य के केबिनेट सचिव से लेकर ग्राम सचिव तक के अधिकारियो पर कार्यवाही का निर्देश दिया है।

रिपोर्ट- प्रशांत यादव