अमर भारती : प्रदूषण आजकल में दिल्ली के लिए एक बड़ा संकट बन गया है और अब इस पर सख्ती से निपटने के लिए तीनों नगर निगमों में तैनात टीमों ने पिछले 15 दिन में प्रदूषण फैलाने वाले लोगों से 7,90,84,300 करोड़ रुपये जुर्माना वसूला है। इसके बाद भी लोग नियमों के प्रति जागरूक नहीं हो पा रहे हैं।

इन सब में दक्षिणी नगर निगम ने सबसे ज्यादा लोगों को पकड़ चलान काटे हैं। सेंट्रल जोन, साउथ जोन, वेस्ट जोन और नजफगढ़ जोन में खुले में कचरा जलाने पर 1508, निर्माण कार्यों से प्रदूषण पर 350, खुले में मलबा डालने पर 269 और सड़क से धूल उड़ाने पर 2145 चालान किए। 15 से 31 अक्तूबर तक 4272 चालान कर 1.84 करोड़ की राशि बतौर जुर्माना वसूली गई।

जानकारी के अनुसार उत्तरी दिल्ली नगर निगम के प्रमुख इलाके केशवपुरम, सदर पहाड़गंज, करोल बाग, नरेला, सिविल लाइंस और रोहिणी जोन में 15 से 31 अक्तूबर तक 7959 स्थानों का दौरा किया गया है। इससे निगम ने 5.57 करोड़ रुपये का जुर्माना वसूला। निगम ने इस दौरान 8599 एमटी मलबा हटाया। 2800 किमी सड़कों पर पानी छिड़का और 5420 किमी सड़कों को मैकेनिकल स्वीपिंग से साफ किया।

आखिर में पूर्वी दिल्ली नगर निगम ने पिछले 24 घंटों में प्रदूषण फैलाने के खिलाफ 25 चालान किए। 15 अक्तूबर से शुरू कार्रवाई के समय के दौरान ईडीएमसी ने अब तक 925 जगहों पर नियमों का उल्लंघन पाया और 502 चालान किए। इनसे निगम ने 49 लाख से ज्यादा रकम जुर्माने के तौर पर जमा किये है।