अमर भारती : इटियाथोक गोंडा। सरकार के लाखों प्रयास करने के बावजूद  भी बाल विकास परियोजना विभाग अभी भी अपने पुराने ढर्रे पर चल रहा है। हद तो तब हो गई जब ब्लॉक के एक कमरे में संचालित कार्यालय बाल विकास परियोजना की पड़ताल की गई,  तो देखा गया कि 10:50 हो रहे हैं और कार्यालय बाल विकास परियोजना में ताला लटका हुआ है। परियोजना अधिकारी की बात कौन कहे चपरासी तक ने आकर कार्यालय खोलना मुनासिब नहीं समझा जिससे यहां शासन की मंशा पर पानी फेरा जा रहा है।
ब्लॉक के बाल विकास परियोजना कार्यालय की पड़ताल की गई तो कार्यालय पर ताला लटक रहा था और कार्यालय पर एक सहायिका पहुंच रही थी बाकी कोई कर्मचारी उपस्थित नहीं था अगर ऐसा ही रहा तो योगी के बाल विकास परियोजना का हो गया बेड़ा गर्ग और हो जाएगा। वही आस पास के अन्य लोगों से जब जानकारी ली गई तो उन्होंने बताया कि, कमोबेश यह रोज की बात है। कभी भी समय से यह नहीं खुलता है और न ही कोई अधिकारी व कर्मचारी समय से यहाँ आता है।जिसके चलते इस परियोजना पर यहाँ सवालिया निशान लग गया है ।