अमर भारती : गौतमबुद्ध नगर मे बनने वाले जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के लिए जिला प्रशासन ने एयरपोर्ट के निर्माण के लिए 1068 हेक्टेयर ज़मीन के लिए 80 फीसदी भूमि अधिग्रहण की है। उसी भूमि अधिग्रहण के प्रमाण पत्र को देने के लिए आज राजधानी लखनऊ स्थित पांच कालिदास मार्ग पर मुख्यमंत्री आवास में 6 गांव के किसानो ने मुख्यमंत्री को सहमति प्रमाण पत्र सौंपा। जिलाधिकारी नोएडा के साथ जेवर विधानसभा के विधायक सुरेंद्र सिंह भी लखनऊ स्थित मुख्यमंत्री आवास पहुंचे। सभी किसानों ने सरकार द्वारा अपने अपने गांव की जमीन अधिग्रहण के प्रमाण पत्र को सीएम योगी आदित्यनाथ को सौंपा दिया।

कार्यक्रम में सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपने संबोधन में कहा कि जब मैं नोएडा गया तो वहां के किसानों से बातचीत की थी। मुझे किसानों से बात करके अच्छा लगा। हमने यमुना एक्सप्रेस वे का विकास तो किया वही जेवर के आसपास का क्षेत्र विकास से काफी दूर था। लोगो के सामने पहचान का संकट पैदा हो गया था। इसके लिए एयरपोर्ट वहां बने जिससे वहां के लोगो की अलग पहचान बने। आपसी सहमति से कैसे आगे बढ़ाया जा सकता है उसका उदाहरण है।

विकास के प्रति स्पष्ट सोच न होने के कारण प्रदेश पिछड़ता हुआ दिख रहा था। जेवर या उसके आस पास एयरपोर्ट बनता है तो प्रदेश का विकास होगा। 23 करोड़ की जनता को हम गौरवान्वित कर सकते है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि विकास का इतना बड़ा प्रोजेक्ट हमारे यहां आए तो हमारे लिए बड़े प्रसनंता की बात होगी। आम लोगो के चेहरे पर खुशहाली लाने के लिए विकास जरूरी है। सहमति के लिए संवाद चाहिए उनकी भावनाओं का सम्मान होना चाहिए।

गौतम बुद्ध नगर के जिला प्रसाशन को मैं धन्यवाद देता हूं। एक समय के अंदर 80 प्रतिशत के जमीन का कब्जा लेकर पहली शर्त पूरी की क्योंकि 80 प्रतिशत जमीन किसी प्रोजेक्ट के लिए जरूरी होती है। संघर्ष को हर हाल में टाले, संवाद बनाएं। पिछले ढाई वर्ष में पीएम मोदी कर सपने को साकार करने के बड़े कदम उठाए। उन्होंने कहा कि कुशीनगर में भी एयरपोर्ट बन रहा। आगरा, कानपुर में सिविल टर्मिनल पर काम चल रहा। सहारनपुर और अयोध्या में नया एयरपोर्ट बना रहे, हम एक्सप्रेस वे के साथ एयर कनेक्टिविटी दे रहे। यूपी देश के विकसित राज्यों की श्रेणी में खड़ा होगा।