यूरोपीय सांसदों के दल के कश्मीर दौरे को लेकर मायावती ने साधा केंद्र सरकार पर निशाना

अमर भारती : कश्मीर में धारा 370 हटाने के बाद से वहां पर हालात नाजुक मोड़ पर है पाकिस्तान द्वारा तो  यही प्रोपोगंडा पूरी दुनिया भर में फैलाया जा रहा है जिसके कारण कश्मीर की जमीनी हक़ीक़त जानने के लिए 28 युरोपियन संघ के सांसदों का दल कल कश्मीर पंहुचा था, जिसे लेकर विपछ केंद्र की बीजेपी सरकार पर हमलावर रहा।

कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद से पडोसी मुल्क पकिस्तान कश्मीरियों पर भारतीय सेना की  ज्यादती का प्रोपोगंडा पूरी दुनिया में ढ़ोल पीट पीट कर फैला रहा है बात अंतर्राष्ट्रीय मंचों तक पहुंची तो 28 यूरोपीय सांसदों का कश्मीर की जमीनी हक़ीक़त जानने के लिए कश्मीर दौरे पर कल पंहुचा था।

जिसके बाद से हिंदुस्तान की सियासत में उबाल आना तो तय था क्यों की राहुल गाँधी भी अपने प्रतिनिधि मण्डल के साथ कश्मीर दौरे पर जाना चाहते थे लेकिन सरकार ने इसकी इजाजत उन्हें नहीं दी। फिर क्या था राहुल गाँधी से लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी सरकार को घेरने का भरसक प्रयास किया  मायावती ने ट्वीट करके सरकार को अपने देश के के विपछि दलों के सांसदों को पहले वहां भेजनें की वकालत की।

मायावती ने ट्वीट किया तो भला यू पी कांग्रेस इसमें कहा पीछे रह सकती थी। उत्तरप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने जहां मायावती के ट्वीट को सही ठहराया वही दूसरी ओर कश्मीर मुद्दे पर संसद में बीजेपी सरकार का साथ देने को लेकर निशाना भी साधा गौर तलब है की बसपा सुप्रीमो ने कश्मीर मुद्दे पर सरकार के पछ में वोटिंग की थी।

वही मायावती के ट्वीट वार का जवाब देते हुए यू पी के कानून मन्त्री बृजेश पाठक ने एक्सपोज़ इंडिया से कहा की कश्मीर मुद्दे पर जो की देश का इतना बड़ा मुद्दा है विपछ को राजनीत करने से बचना चाहिए चुकी मामला पर पूरे विश्व की नजर है इसलिए युरोपियन संसदो का दल कश्मीर के हालत का जायजा लेने आया था साथ ही साथ यू पी के कानून मंन्त्री बृजेश पाठक ने पूरे विपछ को अपनी गिरेबान में झाकने की नसीहत दे डाली।

आपको  बता दें कि जम्मू कश्मीर से पांच अगस्त को अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले के बाद यह पहला अंतरराष्ट्रीय प्रतिनिधि मंडल है जिसे कश्मीर का दौरा करने की अनुमति दी गई है।