अमर भारती : बांदा जिला अधिकारी ने अब कुम्हार जाति के लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाने के लिए एक नया और नायाब तरीका निकाला है। इसी के चलते आज जिला अधिकारी हीरालाल ले शहर के खाई पार मोहल्ले में रहने वाले कुछ कुम्हार समाज के लोगों के बीच में जाकर उन्हें माला पहनाकर उनका सम्मान किया और उन्हें उपहार स्वरूप एक एक मिठाई का डिब्बा भी दिया।

आपको बता दें कि पूरा मामला बांदा जनपद शहर कोतवाली थाना क्षेत्र के खाई पार मोहल्ले का है। जहां आज बाँदा के जिला अधिकारी हीरालाल के द्वारा कुम्हार समाज के लोगों को माला और मिठाई बांटकर उनका सम्मान किया। वहीं दूसरी तरफ कई कुम्हार जाति के लोग ऐसे भी रहे जो मायूस होकर लौट गए जिला अधिकारी के ही कुछ छोटे अधिकारियों की कारगुजारी के चलते बाकी के कुम्हार जाति के लोगों को जिला अधिकारी के द्वारा ना तो सम्मान मिला और ना ही दिवाली की मिठाई जबकि उस मोहल्ले की बात करें तो उस मोहल्ले में कुम्हार जाति के लोगों की आबादी लगभग एक हजार के आसपास है।

जिसमें ढाई सौ से 300 परिवार निवास करते हैं। लेकिन उनमें से 15 ही परिवारों को जिला अधिकारी के द्वारा सम्मानित किया गया है। बस इतना ही नहीं जिलाधिकारी ने उन कुमार परिवार के लोगों को माला मिठाई तो दी और इसके साथ एक नारा भी दिया की पटाखा मुक्त पॉलिथीन मुक्त और जलयुक्त दिवाली मनाए लेकिन साहब हम दिवाली कैसे मनाएं आपने तो केवल हमें इतना ही दिया यदि जिला अधिकारी महोदय उन गरीब कुम्हारों के घर से कुछ दिए ही खरीद लेते तो शायद उनके दिलों में उनके प्रति और भी उत्साह और सम्मान बढ़ जाता। लेकिन जिलाधिकारी के इतना करने के बाद भी उन कुम्हार जाति के लोगों में मायूसी ही दिखाई दी।

वहीं जब जिलाधिकारी से इस विषय में बात की गई तो उन्होंने बताया कि आज हमने दीपावली के अवसर पर कुम्हार जाति के लोगों का माला और मिठाई देकर सम्मान किया है और उनसे यह भी अपील की है कि वह लोग पटाखा और प्लास्टिक मुफ्त व जलयुक्त दीपावली मनाए। इसके अलावा जिलाधिकारी ने यह भी बताया कि कुम्हारों को अपने मिट्टी के बर्तनों को बेचने में भारी समस्याएं आती हैं इसके लिए हम इन्हें एक सुनिश्चित स्थान मुहैया कराएंगे जिसके जरिए यह लोग वह बाजार लगाकर अपने मिट्टी के बर्तनों की बिक्री कर पाएंगे और मेरे द्वारा पूरे जनपद में यह ऐलान किया गया है कि सभी लोग पटाखे और प्लास्टिक का उपयोग ना करें और जलयुक्त दीपावली मनाए जलयुक्त का मतलब यह है कि जैसे आपके घरों में या आसपास नलकूप कुआं तालाब आदि है तो वहां पर भी दीप जलाकर अपनी दीपावली को मनाने का काम करें।