अमर भारती : अयोध्या में लाख कोशिशों के बावजूद प्रदेश सरकार कानून व्यवस्था के मुद्दे पर विपक्षियों के निशाने पर हैं। इसी के चलते कानून व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त बनाने के लिए प्रदेश सरकार की ओर से सभी जिलों के लिए नोडल अधिकारी तैनात किए गए हैं। जल्द ही इन नोडल अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री बैठक करने वाले हैं। इसको लेकर जिले के क्राइम डाटा और पुलिस महकमे के क्रियाकलाप की ऑडिट करने जिले के नोडल अधिकारी एडीजी लखनऊ जोन एसएन साबत दो दिवसीय दौरे पर मंगलवार को जनपद पहुंचे। एडीजी जोन ने आदर्श थाने रौनाही और कैंट का निरीक्षण किया तथा सर्किट हाउस में अधिकारियों के साथ बैठक कर अपराधों की समीक्षा की।

आदर्श थाने रौनाही और कैंट के निरीक्षण के दौरान साफ-सफाई को लेकर एडीजी जोन लखनऊ ने गहरी नाराजगी जताई। जब और मुकदमे से संबंधित खड़े वाहनों को निर्धारित प्रक्रिया पूरी करवा जल्द से जल्द निस्तारित करवाने का निर्देश दिया। परिसर के सौंदर्यीकरण के लिए वृक्षारोपण तथा परिसर में मौजूद वृक्षों पर सेफगार्ड लगाने की हिदायत दी। दूसरी पहर सर्किट हाउस में पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर जनपद में घटित अपराध तथा उसको लेकर की गई कार्रवाई की समीक्षा की।

मीडिया के सवाल पर उन्होंने कहा कि मौजूदा हालात तथा दीपोत्सव कार्यक्रम को लेकर अयोध्या की सुरक्षा व्यवस्था को उन्नत किया गया है। सुरक्षा, भीड़ नियंत्रण तथा यातायात व्यवस्था को लेकर योजना बनाई गई है। पूर के दौरे में वह सुरक्षा तैयारियों की समीक्षा कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि जिला पुलिस की डिमांड पर फोर्स उपलब्ध कराई जा रही है। पहले चरण में 15 अक्टूबर को कुछ फोर्स आ चुकी है और दूसरे चरण में 23 अक्टूबर में फोर्स को आना है। दीपोत्सव को लेकर लगने वाली फोर्स को उसके बाद भी रोका जाएगा और बाद की परिस्थितियों के आधार पर उनकी ड्यूटी लगाई जाएगी। हिंदू नेता कमलेश तिवारी की हत्या के बाबत कहा कि तीन आरोपियों को पुलिस रिमांड पर लाई है। उनसे पूछताछ की जा रही है। मुख्य आरोपियों की तलाश के लिए पुलिस टीम के साथ एजेंसियों को लगाया गया है। अलर्ट के बावजूद शराब तस्करी कर जनपद पहुंची कार के बाबत उन्होंने कहा कि मामले की जांच कराई जा रही है। लापरवाही मिलने पर कार्यवाही की जाएगी।