अमर भारती : लखनऊ में कालीचरण कॉलेज कार्यक्रम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंचे। वहां पहुंचने के बाद सीएम ने कॉलेज के बारे में कई बाते बताई। जिसमें उन्होने बताया यह शिक्षण संस्थान 113 वर्ष पुराना है। राज्यपाल श्री टण्डन जी ने इसे नया रूप दिया। 1905 में इस संस्था की स्थापना हुई थी। तब देश अंग्रजों के कुचक्र में फंसा था। 1913 में यह हायर सेकेंडरी स्कूल बना। आज यह संस्था महाविद्यालय का रूप ले चुकी है।

यहां से लालजी टण्डन जी, अमृत लाल नागर, न्यायमूर्ति वी के धवन जैसे छात्र निकले हैं। यह संस्थान निरन्तर विकास की नई ऊंचाइयों को छू रहा है। भारत दुनिया का सबसे ज्यादा युवाओं वाला देश है। उत्तर प्रदेश है 35 वर्ष तक की उम्र के सबसे ज्यादा युवाओं का प्रदेश है। यह युवा ऊर्जा ही इस प्रदेश का गौरव है। इन्ही के कंधों पर देश और प्रदेश की जिम्मेदारी है। शिक्षा केवल डिग्री और डिप्लोमा हासिल करने का माध्यम नहीं, शिक्षा सर्वांगीण विकास और राष्ट्र निर्माण के लिए संसाधन है।

आज के समय सोशल मीडिया हमारे लिए चैलेंज है। इसपर अत्यंत निर्भरता आपको गलत दिशा में  ले जा सकती। इसका रचनात्मक उपयोग आपके लिए मददगार भी है। इसका गलत उपयोग भस्मासुर जैसा है। हालाकि सीएम ने सोशल मीडिया को बहुत बड़ा नुकसान बताया है। सोशल मीडिया पर अत्यंत निर्भरता से बड़ा नुकसान हो सकता है। सोशल मीडिया का रचनात्मक उपयोग के लिए जरूरी है, परन्तु इसका गलत उपयोग भस्मासुर जैसा है